कांग्रेस सांसद शशि थरूर की मानहानि याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने अर्णब गोस्वामी को कड़ी फटकार लगाई है. दिल्ली हाई कोर्ट ने पत्रकार अर्णब गोस्वामी और उनके न्यूज चैनल ‘रिपब्लिक टीवी’ को निर्देश दिया है कि वे कांग्रेस सांसद शशि थरूर के खिलाफ शब्द रूपी हमले बंद करें.

दरअसल, अर्णब गोस्वामी के चैनल रिपब्लिक ने अपने विशेष प्रोग्राम में सुनंदा पुष्कर हत्याकांड को लेकर खुलासा करते हुए, दावा किया था कि सुनंदा पुष्कर की मौत के बाद कांग्रेस नेता शशि थरूर कमरे में वापस आए थे. कार्यक्रम के दौरान अर्णब ने यह भी कहा कि शशि थरूर के कमरे में आने के बाद सबूतों से छेड़छाड़ की गई थी.

और पढ़े -   कांग्रेस का आरोप, अडानी समूह ने किया 50 हजार करोड़ रूपए का घोटाला, जनता से वसूला जा रहा अडानी टैक्स

कोर्ट ने अर्णब को निर्देश देते हुए कहा है कि आप भाषणबाजी कम करो और अपने तथ्य दिखाओ. सोमवार को न्यायमूर्ति मनमोहन ने कहा कि पत्रकार और उनका समाचार चैनल यह कहते हुए खबरें दिखा सकता है कि ये तथ्य पुष्कर की मौत की जांच से संबंधित हैं. लेकिन कोर्ट ने कहा कि वो थरूर को ‘अपराधी’ नहीं कह सकता.

अदालत ने यह भी कहा कि सिर्फ इसलिए कि थरूर उनके शो में नहीं आ रहे हैं या साक्षात्कार नहीं दे रहे हैं, यह इस बात को कहने का आधार नहीं हो सकता कि वह भाग रहे हैं, जैसा कि समाचार चैनल ने कहा.अदालत ने थरूर की ओर से जवाब नहीं आने के संबंध में कहा कि किसी व्यक्ति को मौन रहने का अधिकार है और कोई नहीं समझा है कि कैसे हमारा कानून काम करता है.

और पढ़े -   ईद के दिन सडको पर नमाज पढने से रोक नही तो थानों में जन्माष्टमी मनाने पर किस हक़ से लगाये रोक - योगी आदित्यनाथ

इस प्रोग्राम के बाद 27 मई को शशि थरूर ने दिल्ली हाई कोर्ट में अर्णब गोस्वामी और रिपब्लिक टीवी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर कर दो करोड़ रुपये के मुआवजे की याचिका में मांग की थी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE