चंडीगढ़ | नवनिर्वाचित पंजाब सरकार में मंत्री बने नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा टीवी शो करना मुसीबत का सबब बन सकता है. दरअसल हरियाणा-पंजाब हाई कोर्ट ने सिद्धू को इस मामले में कड़ी फटकार लगाई है. इसके अलावा अदालत ने याचिकाकर्ता से भी अगली सुनवाई में क़ानूनी तथ्य रखने के निर्देश दिए है. मामले की अगली सुनवाई 2 अगस्त तक के लिए स्थगित कर दी गयी.

बताते चले की नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब सरकार में मंत्री रहते हुए भी सोनी चैनल पर आने वाले कपिल शर्मा के शो में काम कर रहे है. इसलिए विपक्ष का आरोप है की मंत्री रहते हुए सिद्धू का टीवी शो करना कानून के खिलाफ है और इससे हितो के टकराव का मामला भी बनता है. हालाँकि सिद्धू जिद्द पर अड़े हुए है की वो किसी भी सूरत में कपिल शर्मा का शो नही छोड़ेंगे.

और पढ़े -   नहीं रुक रही मोदी सरकार की हादसों वाली रेल, 2 ट्रेनों के पहिए पटरियों से उतरे

इसी मामले में एक याचिकाकर्ता ने हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की थी. इस पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने गुरुवार को सिद्धू को फटकार लगायी. कोर्ट ने कहा की हम कोई कोड ऑफ़ कंडक्ट लागु नही कर सकते लेकिन सार्वजानिक आचरण पर बात हो सकती है. हम मानते है की सार्वजानिक व्यक्ति का एक आचरण होता है. कोर्ट ने यह भी पुछा की क्या कोर्ट सर एक्टिंग फॉर्मेलिटी है?

और पढ़े -   गैंगरेप मामले में झूठ के जरिये मुजफ्फरनगर की फिजा बिगाड़ने की कोशिश, अफवाह फैलाने वाले शख्स को ट्विटर पर फोलो करते है मोदी

अदालत के सवाल पर पंजाब सरकार के वकील जनरल अतुल नंदा ने कहा की कानून में कोई ऐसा प्रावधान नही है जो सिद्धू को टीवी शो करने से रोके. क्योकि कोई भी मंत्री सरकारी कर्मचारी नही होता बल्कि खास मकसद के लिए एक एक मंत्रालय का हेड नियुक्त किया जाता है. अतुल ने बताया की राजकीय कर्मचारी नियम 1966 मंत्रियो पर लागु नही होगा. मामले की अगली सुनवाई 2 अगस्त को होगी.

और पढ़े -   गौरक्षकों के डर से पहलू खान के ड्राइवर ने छोड़ा अपना मवेशी पहुंचाने का काम

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE