देश भर में गौरक्षा के नाम पर हो रही मुस्लिमों और दलितों की पीट-पीट कर हत्या के मामले में मोदी सरकार चौतरफा घिरी हुई है. ऐसे में सरकार की और से बयान आया है कि गौरक्षा के नाम पर हत्या करने वालो से कोई सहानुभूति नहीं दिखाई जा सकती.

राज्यसभा में सदन के नेता के रूप में जवाब देते हुए वित्त्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा, इस तरह की हिंसा को किसी भी तरह तर्कसंगत नहीं ठहराया जा सकता. उन्होंने कहा, गाय के प्रति सम्मान एक अलग विषय है. किन्तु इसे किसी के प्रति हिंसा का आधार नहीं बनाया जा सकता.

और पढ़े -   जजों में दिखे मतभेद , पांच में से तीन जजों ने तीन तलाक को बताया असंवैधानिक

उन्होंने कहा, हम विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र हैं और हमारे यहां सबको बराबरी और धार्मिक विश्वास का अधिकार है. हमारी संस्कृति आपसी मतों का सम्मान करने की संस्कृति है. ऐसी घटनाओं को रोकने एवं उन पर कार्वाई करने के लिए सरकार पूरी तरह से प्रतिबद्ध है. कानून अपना काम करेगा.

उन्होंने कहा कि इस तरह की हिंसा की हर घटना पर कानूनी कार्वाई समुचित ढंग से हुई है. जो भी अपराध में शामिल हैं उनपर आरोपपत्र दाखिल किये जायेंगे और अभियोजन चलाया जायेगा.

और पढ़े -   कभी तीन तलाक के बचाव में दलील देने वाला मुस्लिम पर्सनल बोर्ड, सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर हुआ दो फाड़

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE