hashim 78

बाबरी मस्जिद मामलें के सबसे बड़े पैरोकार हाशिम अंसारी को श्रद्धांजलि देने के लिए सबसे पहले राम जन्मभूमि मंदिर के पुजारी सत्येंद्र दास पहुंचे और उनके बाद हनुमानगढ़ी के महंत ज्ञानदास आए. 

श्री राम जन्मभूमि के मुख्य अर्जक आचार्य सत्येंद्र दास ने हासिम अंसारी के आवास पर पहुंचकर उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की. वहीँ सुबह 8:00 बजे अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और हनुमानगढ़ी के महंत ज्ञानदास ने हाशिम अंसारी अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की.

और पढ़े -   हिंदुत्व एवं हिन्दू की रक्षा करने के लिए सेना तैयार करेगी आरएसएस और बीजेपी

hasd

इस मौके पर महंत ज्ञानदास हाशिम के निधन पर बेहद भावुक हो उठे. हाशिम अंसारी के पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए महंत ज्ञानदास अपने आंसुओं को रोक नहीं सके और फफक कर रोने लगे. महंत ज्ञानदास ने कहा हाशिम का सपना अधूरा रह गया मेरा एक साथी मुझसे बिछड़ गया उनकी इच्छा थी अयोध्या के विवाद का हल हो लेकिन ऐसा हो न सका आज जो नुकसान अयोध्या का हुआ है उसकी भरपाई नहीं हो सकती.

और पढ़े -   दिल्ली में सैकड़ों साल पुरानी दरगाह और मस्जिदों की इमारतों में तोड़फोड़

jjj

हाशिम अंसारी के बेटे इकबाल अंसारी को सांत्वना देते हुए महंत ज्ञानदास ने कहा कि उनके पिता ने जो मुहीम शुरू की थी उसको पूरा कर अयोध्या विवाद का हल करना ही हाशिम अंसारी के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी. महंत ज्ञान दास ने कहा कि अब हाशिम अंसारी के परिवार की ज़िम्मेदारी मेरी है जब भी कभी हाशिम अंसारी के परिवार को किसी भी चीज की जरुरत होगी यह कोई भी विपत्ति हाशिम के परिवार पर आएगी तो सबसे पहले महंत ज्ञानदास उसका सामना करेंगे हाशिम मेरे मित्र थे इसलिए अब उनके परिवार की जिम्मेदारी मेरी बनती है.

और पढ़े -   पुंडूचेरी में कांग्रेसी कार्यकर्ताओ ने किरण बेदी को हिटलर दिखाते पोस्टर लगाये

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE