कैथल | हरियाणा में पुलिस की छवि को धूमिल करती एक बेहद ही घिनोनी घटना सामने आई है. मिली जानकारी के अनुसार यहाँ एक 14 वर्षीय रेप पीडिता ने आरोप लगाया है की पुलिस ने जांच के बहाने उसके कपडे उतारवाये और उसको गलत ढंग से छुआ. पीडिता ने ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट के सामने बयान देते हुए आरोपी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है.

हालाँकि यह घटना करीब 6 महीने पुरानी है लेकिन ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट के सामने रेप पीडिता के बयान अभी दर्ज कराया गया है. पीडिता ने अपने बयान में कहा की उसने 20 नवम्बर 2016 को थाने में रेप की शिकायत दर्ज करवाई थी. इसके बाद पुलिस वालो उसे, आरोपी के साथ क्राइम इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (सीआईए) के दफ्तर ले गए जहाँ पुलिस वालो ने उसके साथ अभद्रता की.

पीडिता ने ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट को बताया की जांच के दौरान एक पुलिस वाले ने उसे अपनी शर्ट के बटन खोलने के लिए कहे. इसके अलावा दुसरे पुलिस कर्मी ने उसकी जांघो को भी छुआ. यही नही उन्होंने मुझे धमकी भी दी की अगर तुमने यह सब किसी को बताया तो वह मेरा मेडिकल नही कराएँगे. पीडिता ने यह भी बताया की वो रेप आरोपी को पहले से जानती है.

ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट को पीडिता के वकील ने बताया की इस बारे में कई बार डीजीपी से मामले में हस्तक्षेप की मांग की लेकिन उन्होंने अभी तक किसी भी पुलिस वाले के खिलाफ कोई कार्यवाही नही की है. मामले पर सुनवाई करते हुए ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट ने हरियाणा के डीजीपी को नोटिस जारी किया और अगली सुनवाई से पहले अपना जवाब दाखिल करने का आदेश दिया.

देश में पुलिस का काम लोगो की सुरक्षा करना और उनको न्याय दिलाना है. लेकिन क्या पुलिस अपने काम और जिम्मेदारियों का सही तरीके से निर्वहन कर रही है? एक समय था जब पुलिस को देखकर हिम्मत बढती थी लेकिन अब डर लगने लगा है. जब खुद पुलिस रक्षक की बजाय भक्षक बन जाये तो ऐसी चीजे लिखनी भी पड़ती है और कहनी भी पड़ती है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE