नई दिल्ली | सोशल मीडिया के उत्थान से लोगो को ऐसी चीजे देखने को मिल जाती है जिसकी मीडिया कभी रिपोर्टिंग नही करता. वैसे भी हमारे देश में मीडिया पर एक खास दल के प्रभाव में आकार रिपोर्टिंग करने के आरोप लगते रहते है. इसलिए जनता के मन में मीडिया की विश्वसनीयता को लेकर हमेशा संदेह बना रहता है. इसकी वजह न्यूज़ चैनल के वो एंकर है जो किसी भी डिबेट कार्यक्रम के दौरान खुद को एक विशेष पार्टी के प्रवक्ता के तौर पर खुद को पेश करते रहते है.

इंडिया टीवी के मालिक और एडिटर इन चीफ रजत शर्मा उन गिने चुने पत्रकारों में से एक है जिनकी विश्वसनीयता पर सवाल नही उठते थे. लेकिन केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद इनके रुक में भी बदलाव देखने को मिलने लगा. अब वो अपने ज्यादातर कार्यक्रम में बीजेपी की वकालत करते ज्यादा दिख जाते है. ऐसा भी नहीं है की दर्शको को यह सब नही दिखता. उनको सब पता होता है और इसकी एक बानगी हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में देखने को मिली.

और पढ़े -   देश के मौजूदा हालात नाजी जर्मनी से भी बदतर, चल रहा संवैधानिक हॉलोकॉस्ट: चर्च

यहाँ के एक छात्र ने रजत शर्मा से कई ऐसे सवाल पूछे की उनकी बोलती बंद हो गयी. छात्र ने रजत शर्मा पर आरोप लगाया की आप बीजेपी के एजेंट होने के बाद निष्पक्ष पत्रकारिता कैसे कर सकते है. दरअसल अभी कुछ दिन पहले रजत शर्मा हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने गए थे. इसी कार्यक्रम में वहां के एक छात्र ने रजत शर्मा से कुछ ऐसे सवाल पूछे की उनके पास मुस्कुराने के अलावा कोई चारा नही बचा.

और पढ़े -   ABVP कार्यकर्ताओ ने मुस्लिम प्रिंसिपल को झंडा फहराने से रोका, जबरदस्ती कहलवाया वन्देमातरम

छात्र ने पुछा की आप हमेशा कहते है की सवालों को बिना डरे पूछना चाहिए. मैं आपसे बिना डरे कुछ सवाल पुछ रहा हूँ जिससे आपको कुछ मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है. छात्र ने कहा की यह जगजाहिर है की आप डीयू में अरुण जेटली के क्लासमेट रहे है. इसके अलावा आप एबीवीपी के महासचिव भी रह चुके है. उत्तर प्रदेश इलेक्शन में मोदी ने अमित शाह को आपके पास कुछ टिप्स लेने के लिए भी भेजा था.

और पढ़े -   मोहम्मद कैफ और शबाना आजमी ने तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत , हुए ट्रोल

छात्र ने आगे कहा की शत्रुघन सिन्हा ने एक बार कहा था की रजत शर्मा , सरकार में किसी भी कैबिनेट मिनिस्टर से ज्यादा पावरफुल है. इसके अलावा आपको पद्मभूषण से भी नवाजा गया. जबकि इंडियन एक्सप्रेस की आरटीआई में पता चला की आपका उस लिस्ट में नाम भी नही था. आपने केजरीवाल मानहानि केस में जेटली का साथ दिया. आपके चैनल में अम्बानी , अडानी का पैसा लगा है जो बीजेपी समर्थक माने जाते है. फिर आप खुद को बायस्ड कहलाने से खुद को कैसे रोक सकते है? छात्रों के इन सवालों पर रजत शर्मा कुछ नही बोल पाए और बस मुस्कुराते रहे.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE