hamid

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने बाबरी मस्जिद की शहादत के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव को पूरी तरह से जिम्मेदार ठहराया हैं. उन्होंने कहा कि नरसिम्हा राव की हिंदूवादी सोंच के कारण बाबरी मस्जिद गिरी हैं.

विनय सीतापति द्वारा लिखित किताब ‘हाफ लायन’ के विमोचन समारोह के दौरान उपराष्ट्रपति ने कहा संसद के प्रबंधन और बाबरी मस्जिद के विध्वंस से संबंधित पुस्तक के दो हिस्से टिप्पणियां आमंत्रित करेंगी.

और पढ़े -   बाबरी मस्जिद शहादत मामले में सीबीआई कोर्ट ने की आडवाणी की हाजिरी माफी की अर्जी मंजूर

हामिद अंसारी ने कहा, “अभिशाप 26 जुलाई 1992 को विश्वास मत के साथ आया. सरकार का उद्देश्य किसी भी कीमत पर अपना अस्तित्व बचाए रखना था. अनैतिक हथकंडों का सहारा लिया गया. ये आखिरकार कानून की सीमा से परे पाए गए. स्पष्ट है कि यह नरसिम्हा राव के करियर का सबसे खराब राजनैतिक फैसला था.”

उन्होंने आगे कहा, “निष्कर्ष अपरिहार्य है कि हिचक राजनैतिक दृष्टि से थी, न कि संवैधानिक लिहाज से थी. निष्कर्ष के तौर पर कहा जा सकता है कि नरसिम्हा राव ने देश के लिए जो अच्छा किया वो उनके बाद भी है और नुकसान भी बदस्तूर जारी है और भारी कीमत वसूल रहा है.”

और पढ़े -   अल्पसंख्यको के लिए खुलेंगे 100 नवोदय जैसे स्कूल और 5 उत्कृष्ठ शैक्षणिक संस्थान

इस दौरान वरिष्ठ कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने कहा, “हमने प्रधानमंत्री को खतरे के प्रति सजग होने के लिए राजी करने की कोशिश की लेकिन उस व्यक्ति ने खतरे के प्रति सजग होने से इनकार कर दिया.”


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE