Mecca-crush-pilgrimage-Hajj-351996

हज यात्रा को विदेश मंत्रालय से लेकर अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय को दिए जाने के विरोध में मंगलवार को जंतर मंतर पर प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम चार सूत्रीय मांग का ज्ञापन दिया गया।

केंद्रीय हज कमेटी के पूर्व सदस्य हाफिज नौशाद आजमी ने इस बारे में कहा कि केंद्र सरकार ने हज विभाग को विदेश मंत्रालय से हटाकर अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय को दे दिया है जो धर्म गुरुओं और हज यात्रियों को मंजूर नहीं है।

उन्होंने कहा, हज विदेश यात्रा है और आजादी के बाद से ही विदेश मंत्रालय हज यात्रा का काम देखता आ रहा है। विदेश मंत्रालय के पास हज सेल है और विदेशों में इसके सैंकड़ों कर्मचारी हैं जो हज यात्रियों की बेहतर सेवा करते हैं।

उन्होंने कहा कि हज यात्रियों की सुविधा के लिए हज यात्रा को विदेश मंत्रालय के पास ही रखा जाए। आजमी ने कहा कि हज कमेटी में इस साल लगभग पांच लाख आवेदन आए थे और चार लाख लोगों को निराशा हाथ लगी। उन्होंने प्रधानमंत्री से अनुरोध किया कि वह सऊदी अरब के शाह से बात कर के भारत का हज कोटा बढ़वाएं।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें