अहमदाबाद की विशेष अदालत ने गुलबर्ग हत्याकांड मामले में सजा सुनते हुए 11 दोषियों को उम्रक़ैद की सजा सुनाई हैं साथ ही 12 दोषियों को सात साल के जेल कारावास की दी है. इनके अलावा एक दोषी को को 10 साल की क़ैद की सज़ा सुनाई गई है. इससे पहले अदालत ने दो जून, 2016 को इस मामले में 24 लोगों को दोषी क़रार दिया था.

और पढ़े -   ट्रिपल तलाक पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी, पर्सनल लॉ बोर्ड निकाहनामा में बदलाव के लिए तैयार

28 फरवरी, 2002 में गुजरात के अहमदाबाद में गुलबर्ग सोसायटी को आग लगाई गई थी, जिसमें कुल 69 लोगों की मौत हुई थी. इस कांड में पकड़े गए कुल 64 अभियुक्तों पर अदालत में मुक़दमा दायर किया गया और इनमें से 24 को दोषी ठहराया गया था.

इस पूरे मामले में फ़ैसला आने में 14 साल बीत गए. साल 2002 में गुजरात में हुए दंगों के दौरान अहमदाबाद के गुलबर्ग सोसायटी में 28 फ़रवरी को कांग्रेस के पूर्व सांसद एहसान जाफ़री समेत 69 लोग मारे गए थे.

और पढ़े -   स्मृति ईरानी की बड़ी मुश्किलें - हाई कोर्ट ने फर्जी डिग्री विवाद में ट्रायल कोर्ट से मांगा रिकॉर्ड

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE