09_thsri_modi_2305331f

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिग्री विवाद मामले शांत होते नजर नहीं आ रहा हैं। अब गुजरात विश्वविद्यालय के रिटायर्ड प्रो. जयंती लाल जो कि 1969 से 1983 तक राजनीति शास्त्र के प्रो. के रूप में कार्यरत रहे हैं ने मोदी की डिग्री पर सवाल खड़े कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि एमए की डिग्री में जो विषय बताए गए हैं, वे विषय उस समय विश्वविद्यालय में पढ़ाए ही नहीं जाते थे।

और पढ़े -   जेवर गैंगरेप में नया मोड़, मेडिकल रिपोर्ट में नही हुई रेप की पुष्टि

उन्होंने आगे कहा कि मोदी की गुजरात यूनिवर्सिटी की ओर से एमए की जो डिग्री जारी की गई, उसमें और रेगूलर मार्कशीट में फर्क है। यही नहीं एमए पार्ट द्वितीय में जो पेपर्स बताए गए हैं, उनके नाम में कुछ गड़बड़ है। पटेल ने कहा मुझे जहां तक याद है इंटरनल व एक्सटर्नल विद्यार्थियों के लिए इस विषय के पेपर्स ही नहीं हुआ करते थे।

और पढ़े -   दलित नेता मानकर ने भगवद गीता को बताया घटिया, कहा - कचरे के डब्बे में फेंक देना चाहिए

हालांकि गुजरात यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार महेश पटेल ने कहा कि जो डिग्री जारी की गई है, वह एकदम सही है और यह 30 साल पुरानी है। इसमें विषय भी उसी समय के हैं।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE