prakash-yashwant-ambedkar

बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर के पोते प्रकाश आंबेडकर ने शनिवार को गुजरात के राजकोट सिविल अस्पताल में जाकर ऊना के दलित पीड़‍ितों से मुलाकात कर दलितों से हिंदू धर्म छोड़ने को कहा हैं. इस दौरान वह पीड़‍ित परिवारों से मिलने उनके गांव भी गए.

प्रकाश अंबेडकर ने पीड़‍ितों से हिंदू धर्म और जाति प्रथा से आजाद होने की बात करते हुए कहा, ‘मैंने ऊना पीड़ितों से हिंदू धर्म छोड़ने के लिए कहा है. जाति प्रथा के कारण दलितों को हिंदू धर्म में अमानवीय यातनाएं झेलनी पड़ती हैं.’साथ ही उन्होंने दलित परिवारों से अपने भगवानो को आसपास के मंदिरों में दान करने को कहा हैं. उन्होंने कहा, ‘मैंने उनसे (दलित) सभी देवी देवताओं को आसपास के मंदिरों में दान करने के लिए कहा है.’

और पढ़े -   रोहिंग्या शरणार्थियों की आने की संभावना के चलते भारत ने म्यांमार के साथ की अपनी सीमा सील

उन्होंने आगे कहा, दलित ऐसा करके जाति प्रथा नामक मानसिक गुलामी से आजादी पा सकते हैं. मानसिक आजादी ही शारीरिक आजादी पाने का पहला चरण है।. भगवा ब्रिगेड का लक्ष्य संविधान के मूल सिद्धांतों से हटकर चलना है.’ न्होंने सरकार से तुरंत गो रक्षा के लिए काम कर रहे संगठनों पर बैन लगाने की मांग भी की.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE