भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने अपने पद से हटने की असल वजह अब जाकर बताई है. उन्होंने शिकागो यूनिवर्सिटी द्वारा छुट्टी नहीं बढ़ाने की वजह से पद छोड़ने की अटकलों को खारिज किया है.

उन्होंने कहा कि शिकॉगो विश्वविद्यालय द्वारा उनकी छुट्टियां नहीं बढ़ाने की वजह उनका पद से हटना नहीं था बल्कि सरकार की ओर से उनका तीन साल का कार्यकाल नहीं बढ़ाना इसकी वजह था.

और पढ़े -   यूपी: गौरक्षक दल की नवरात्रों में मस्जिद के लाउडस्पीकर और मीट की दुकाने बंद कराने की मांग

ध्यान रहे रघुराम राजन देश के पहले भारतीय रिजर्व बैंक के ऐसे गवर्नर है जिनके कार्यकाल में वृद्धि नहीं की गई. साथ ही उन्हें पांच साल का कार्यकाल भी नहीं मिला.

दरअसल पद से हटने से पहले सरकार की और से कहा गया था कि उन्हें दो साल का विस्तार देने की पेशकश की गई लेकिन शिकॉगो विश्वविद्यालय द्वारा छुट्टियां नहीं बढ़ाए जाने की वजह ऐसा नहीं किया जा सका.

और पढ़े -   हिन्दू से मुस्लिम बनी दलित दंपत्ति को मिल रही जान से मारने की धमकी, पत्र लिख योगी सरकार से की सुरक्षा की मांग

राजन ने कहा, ‘‘मैं इसको पूरी तरह खारिज करता हूं. यह मुद्दा नहीं था. विश्वविद्यालय मेरे साथ काफी अच्छा है. वे मुझे जितनी मर्जी छुट्टियां देने को तैयार थे. राजन ने कहा कि उन्होंने सरकार का यह कहने के लिए दरवाजा नहीं खटखटाया था कि उन्हें विस्तार की जरूरत है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE