83 cownew 5

कोलकाता | केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद से ही कथित गौरक्षको की गुंडागर्दी काफी बढ़ गयी है. गाय के नाम पर लोगो को मारा जा रहा है लेकिन प्रधानमंत्री मोदी सिर्फ भाषणों के जरिये यह जताने की कोशिश करते है की वो ऐसी घटनाओं से दुखी है. जबकि कार्यवाही के नाम पर कुछ नही किया जाता है. देश में सरेआम गौरक्षक अपना कानून चला रहे है. वही विपक्ष , बीजेपी पर ऐसे लोगो को संरक्षण देने का आरोप लगाते है.

देश में काफी लोग ऐसे है जो यह मानते है की कथित गौरक्षको को बीजेपी का संरक्षण प्राप्त है. इसलिए ऐसे हादसे ज्यादातर बीजेपी शासित राज्यों में ही होते है. लेकिन असल में गौरक्षक समूह चलाने वाले ऐसा नही मानते. बल्कि एक गौरक्षक संगठन का तो यहाँ तक कहना है की गाय को लेकर मोदी दोहरी राजनीती कर रहे है. दरअसल जनता का रिपोर्टर न्यूज़ पोर्टल ने कोलकाता में एक कार्यक्रम ‘जनता का कॉन्क्लेव” का आयोजन किया था.

27 अक्टूबर को हुए इस कार्यक्रम में राज्य के कई दिग्गज नेताओं ने भाग लिया. इसमें तृणमूल कांग्रेस के गर्ग चटर्जी , सीपीआई-एम् के शतरूप घोष , बीजेपी के रितेश तिवारी और गौरक्षको के प्रतिनिधि के रूप में आशु मोंगिया ने हिस्सा लिया. मोंगिया ने देश भर में गाय के नाम पर हो रही हिंसा और हत्या पर अपने विचार रखते हुए कहा की बीजेपी ने देश में गाय तस्करी रोकने के लिए कुछ नही किया है. जबकि खुद पीएम मोदी गुलाबी क्रांति रोकने की बात कह चुके है.

मोंगिया ने आगे कहा की 2014 में मोदी जी ने गुलाबी क्रांति की बात की थी लेकिन अब बांग्लादेश में हो रही गाय की तस्करी पर वो चुप है. इसके लिए सीएम् ममता बनर्जी को दोष देना बंद कर देना चाहिए. क्योकि मोदी जी खुद इस मुद्दे पर दोहरी राजनीती कर रहे है. इस मुद्दे पर मोदी सरकार कितनी गंभीर है इसका पता इसी से लगाया जा सकता है की मैंने बांग्लादेश में हो रही गाय तस्करी के लिए गृह मंत्री को दो बार ख़त लिखा लेकिन उनके पास उसका जवाब देने का समय भी नही है.

मोंगिया ने गाय तस्करी में मुस्लिमो के शामिल होने पर कहा की यह गलत है. कई जगहों पर हिन्दू भी गाय तस्करी में लिप्त पाए गये है. उन्होंने बताया की हमारे समूह में शामिल अधिकांश गौरक्षक मुस्लिम है. बीजेपी पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा की बीजेपी के लिए गाय यूपी में माँ है तो अरुणाचल प्रदेश और गोवा में चाची है. यह केवल ढोंग है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE