zee news apologies

मशहूर शायर गौहर रज़ा को अपने प्रसारण में देशद्रोही बताने पर न्यूज़ चैनल ज़ी न्यूज पर न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड अथॉरिटी (एनबीएसए) ने एक लाख का ज़ुर्माना लगाने के साथ माफ़ीनामा प्रसारित करने का आदेश दिया है. ये माफीनामा चैनल को आठ सितंबर को शाम 9 बजे प्रसारित करना होगा.

दरअसल गौहर रज़ा ने शंकर-शाद मुशायरे में एक नज़्म पढ़ी थी, यह नज्म सत्ता  पर कटाक्ष करने वाली थी. जिसके बाद ज़ी न्यूज़ ने ‘अफ़जल प्रेमी गैंग का मुशायरा‘ शीर्षक से एक कार्यक्रम प्रसारित किया. जिसमें गौहर रज़ा को ‘देशद्रोही’ करार दिया था. साथ ही उन्हें उन्हें संसद पर हमले के आरोपी अफजल गुरु का समर्थक भी बताया था.

और पढ़े -   गुजरात दंगो पर झूठ बोलने को लेकर राजदीप सरदेसाई ने अर्नब गोस्वामी को बताया फेंकू

इस मामले में अब गौहर रज़ा की शिकायत पर ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड अथॉरिटी ने ये आदेश दिया. आदेश के तहत आठ सितंबर को शाम 9 बजे चैनल को हिंदी में बड़े फॉन्ट में फुल स्क्रीन पर माफ़ी मांगनी होगी. प्रसारण साफ आवाज़ में और धीमी स्पीड से प्रसारित किया जाएगा.

इसके अलावा चैनल को सात दिन के अंदर एक लाख रुपये का ज़ुर्माना भी भरना होगा. आदेश में एनबीएसए ने कहा कि बड़े चैनल नागरिकों अभिव्यक्ति के अधिकार हनन नहीं कर सकते.

और पढ़े -   रोहिंग्या शरणार्थियों की आने की संभावना के चलते भारत ने म्यांमार के साथ की अपनी सीमा सील

इस मामले में मशहूर वकील वृंदा ग्रोवर ने गौहर रज़ा की तरफ से एनबीएसए में पैरवी की थी. इस शिकायत में रज़ा के साथ अशोक वाजपेयी, शुभा मुद्गल, शर्मिला टैगोर और सईदा हमीद जैसे नामी कलाकरों ने भी साथ दिया.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE