अल्पसंख्यकों को बेहतर पारंपरिक एवं आधुनिक शिक्षा मुहैया कराने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर के 5 शिक्षण संस्थान स्थापित किये जायेंगे.

मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन की आम सभा और संचालन मंडल की बैठक को संबोधित करते हुए अल्पसंख्यक कार्य राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि आधुनिक, तकनीकी, मेडिकल, आयुर्वेद, यूनानी सहित विश्वस्तरीय कौशल विकास की शिक्षा देने वाले संस्थान देश भर में स्थापित किए जा रहे हैं. हमारी कोशिश है कि यह शिक्षण संस्थान अगले दो वर्षों में काम करना शुरू कर दें. इन शिक्षण संस्थानों में 40 प्रतिशत आरक्षण लड़कियों के लिए किए जाने का प्रस्ताव है.

और पढ़े -   रोहिंग्या शरणार्थियों की आने की संभावना के चलते भारत ने म्यांमार के साथ की अपनी सीमा सील

उन्होंने कहा कि गरीब नवाज कौशल विकास केन्द्र हैदराबाद, नोएडा, लखनऊ, जयपुर, नागपुर, औरंगाबाद, भोपाल, इंदौर, इलाहाबाद, मैसूर, चेन्नई, गोवा, गुवाहाटी, कोलकता, पटना, किशनगंज, देहरादून, शाहजहांपुर, रामपुर, रांची, गिरीडीह, मेवात, तिजारा, पानीपत, दिल्ली, उधमसिंह नगर, अमृतसर, चंडीगढ़, मुंबई आदि स्थानों में शुरू किये जायेंगे.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्रों में 100 नवोदय विद्यालय जैसे स्कूल खोले जाएंगे. 23 गुरकुल जैसे विद्यालयों की स्थापना की गई है. उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य समावेशी विकास और विश्वास है. कोई भी नकारात्मक एजेंडा हमारे विकास और विश्वास के माहौल को कमजोर नहीं कर सकता.

और पढ़े -   गुजरात दंगो पर झूठ बोलने को लेकर राजदीप सरदेसाई ने अर्नब गोस्वामी को बताया फेंकू

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE