raja

मशहूर पेंटर सैयद हैदर रज़ा का शनिवार को दिल्ली में लंबे समय से बीमार चलने के बाद निधन हो गया. 94 साल के सैयद रज़ा पिछले दो महीने से एक निजी अस्पताल के आईसीयू में भर्ती थे.

हैदर रज़ा को भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण सम्मानित किया हुआ था. इसके अलावा  ने उन्हें पिछले साल सर्वोच्च नागरिक सम्मान लीज़न ऑफ ऑनर से नवाजा था. 1983 में उन्हें ललित कला एकेडमी का फेलो चुना गया था.

मूलरूप से उका जन्म मध्यप्रदेश के मंडला जिले में हुआ था. 22 फरवरी 1922 को जन्मे सैयद हैदर रजा ने फ्रांसिस न्यूटन सूजा और केएच आरा के साथ मिलकर 1947 में मुंबई प्रोग्रेसिव आर्टिस्ट ग्रुप निर्मित किया गया. दरअसल वे 50 के दशक में ही फ्रोंस पहुंचे और वहां अपी कला का असर दिखाया.

उन्होंने आॅयल पेंट को एक नया काॅन्सेप्ट दिया. उन्हें फ्रांस बेस्ड इंडियन आर्टिस्ट कहा जाता था. र्ष 2010 में उनकी एक पेंटिंग 16.42 करोड़ रूपए में बिकी थी. आधुनिक कला की दुनिया में सैयद रज़ा एक बड़ा नाम थे और उन्होंने अपनी कूची से अंतरराष्ट्रीय ख्याति हासिल की. सैयद रज़ा की इच्छा के मुताबिक उनका अंतिम संस्कार मध्य प्रदेश के मंडला में किया जाएगा.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें