1417675536_hdfc-bank

नई दिल्ली | मोदी सरकार के 500 और 1000 के नोट बंद करने के बाद पुरे देश में इसके फायदे और नुक्सान को लेकर खूब बहस चल रही है. कुछ लोग नोटबंदी को देश के लिए फायदेमंद बता रहे है तो वही कुछ इसके गंभीर नुक्सान भी बता रहे है. इसी बीच खबर मिली है की बैंकों ने फिक्स्ड डिपाजिट की ब्याज दर में कटौती कर दी है. नोटबंदी के बाद , यह लोगो के लिए दूसरा सबसे बड़ा झटका है.

और पढ़े -   नोटबंदी के बाद से 11 करोड़ रूपए नकली नोटों का लगा पता- अरुण जेटली

देश के दो सबसे बड़े निजी बैंक, आईसीआईसीआई और एचडीएफसी बैंक ने बढे हुए डिपाजिट अमाउंट को देखते हुए फिक्स्ड डिपाजिट की ब्याज दर में कमी करने का फैसला किया. कम की गयी ब्याज दरे कल से प्रभावी हो जाएँगी. नोटबंदी के बाद माना जा रहा था की लोगो को कुछ रियायते मिल सकती है लेकिन ऐसा नही हुआ. हालांकि जानकार मान रहे है की नोटबंदी के बाद सस्ते कर्ज का रास्ता साफ़ हो सकता है.

और पढ़े -   भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शमी के साथ की गयी गाली गलौच , घर में घुसकर मारने की कोशिश

आईसीआईसीआई बैंक ने फिक्स्ड डिपाजिट की दरो में 0.15 फीसदी की कमी की है. अब 390 से 2 तक की सभी फिक्स्ड डिपाजिट स्कीम पर 7.10 फीसदी ब्याज मिलेगा. पहले यह दर 7.25 फीसदी थी. दुसरे निजी बैंक, एचडीएफसी बैंक ने FD की ब्याज दर में 0.25 फीसदी की कमी है. एचडीएफसी में अब फिक्स्ड डिपाजिट पर 6.75 फीसदी ब्याज दर मिलेगा.

और पढ़े -   हिंदुत्व एवं हिन्दू की रक्षा करने के लिए सेना तैयार करेगी आरएसएस और बीजेपी

जानकार इसके पीछे नोटबंदी को कारण मान रहे है. जानकारों के मुताबिक, चूँकि सभी बैंकों के पास अब भरपूर मात्रा में नकदी जमा हो चुकी है इसलिए बैंकों को अब नकद राशी की उतनी जरुरत नही है. इसी को देखत हुए दोनों निजी बैंकों ने फिक्स्ड डिपाजिट की ब्याज दरो में कमी की है. गौरतलब है की नोटबंदी से लेकर अब तक सभी बैंकों में करीब 4 लाख करोड़ रूपए जमा हो चुके है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE