नई दिल्ली | दिल्ली के चांदनी चौक में आग लगने से करीब 80 दुकाने जलकर ख़ाक हो गयी. फायर ब्रिगेड ने करीब तीन घंटे की मसक्कत के बाद आग पर काबू पाया . इस भीषण अग्नि काण्ड में किसी की भी जान माल की हानि नही हुई है. लेकिन इस दौरान बेहद अजीब वाकया घटित हुआ. अग्नि काण्ड की सूचना मिलने पर स्थानीय आप विधायक अलका लांबा भी मौके पर पहुंची जिसके बाद वहां लोगो ने नारेबाजी शुरू कर दी.

दरअसल अलका लांबा, फायर ब्रिगेड की उस गाडी पर चढ़ गयी जिसके जरिये आग बुझाने की कोशिश हो रही थी. वह करीब तीन घंटे तक गाडी पर चढ़ी रही. इस वजह से आग बुझाने आये अग्निशमन कर्मी कुछ देर काम नही कर पाए. इसलिए आग बुझाने का काम रुका रहा. इसलिए उन लोगो के सब्र का बाँध टूटना शुरू हो गया जिनकी दुकाने आग की चपेट में आई हुई थी.

इसके बाद अलका लांबा को नीचे उतारने के लिए अलग से फायर ब्रिगेड की गाडी बुलाई गयी लेकिन वो क्रेन से नीचे नही उतरी. हालाँकि कुछ देर बाद वो क्रेन से तो नीचे आ गयी लेकिन गाडी से नीचे नही उतरी. इस दौरान वहां खड़े कुछ लोग उनके खिलाफ नारेबाजी करने लगे. इसके बाद फायर ब्रिगेड की उस गाडी को जिसमे अलका लांबा सवार थी उसको शीशगंज गुरद्वारे ले जाया गया जहाँ से अलका पुलिस जीप में बैठकर चली गयी.

इस घंटा पर सफाई देते हुए अलका ने कई ट्वीट किये. उन्होंने लिखा ,’लगभग 3 घंटे आग बुझाने में लगे. फ़ायर ऑफ़िसर ने मुझे लोगों से अपील करने को कहा ताकि पैनिक न हो. किसी जान का कोई नुक़सान नहीं हुआ, आग क़ाबू में है. मुझे अपील करते देख बीजेपी ने AK मुर्दाबाद, AL मुर्दाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिए. अपील करने से पहले उन्हें पता नहीं था कि मैं 2 घंटों से वहीं खड़ी हूं.  दुख हुआ देखकर कि ऐसे समय में जब भयानक आग को बुझाने में फ़ायर ऑफ़िसर, दिल्ली पुलिस की मदद करनी चाहिए, बीजेपी नेताओं ने राजनीति करना चुना, मुर्दाबाद कल कर लेते.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE