श्रीनगर | जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और एनसी प्रमुख फारुख अब्दुल्ला ने श्रीनगर संसदीय सीट से होने वाले उपचुनाव के लिए नामांकन किया है. इस दौरान लोगो को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा की भारत संप्रदायिकता की आग में जल रहा है जिसकी आग कश्मीर तक पहुँच सकती है. फारुख ने सभी धर्मनिरपेक्ष ताकतों से मिलकर इससे लड़ने का आग्रह करते हुए कहा की इस पार सोच समझकर मतदान करना.

श्रीनगर में अपनी पार्टी के कार्यालय पर एक जनसभा को सम्भोधित करते हुए फारुख अब्दुल्ला ने ये बाते कही. उन्होंने आगे कहा की मैंने पहले ही कहा था की पीडीपी , हिन्दु सांप्रदायिक पार्टी आरएसएस की पिछलगू है. पीडीपी ने आरएसएस के सामने आत्मसमपर्ण कर दिया है और अब उनके आदेशो का पालन कर रही है. इसी का असर है की बीजेपी वाले भी कलम दवात ( पीडीपी का पार्टी सिंबल) का प्रचार करते दिख रहे है.

फारुख अब्दुल्ला ने लोगो से भावनात्मक अपील करते हुए कहा की अब यह लोगो को सोचना है की वो कश्मीर को आरएसएस की झोली में डालना चाहते है या साम्प्रदायिकता की आग से बचाना चाहते है. इस बार आपको बड़ी गंभीरता से सोच समझकर मतदान करना होगा. क्योकि मैं मानता हूँ की भारत में लगी संप्रदायिकता की आग जम्मू कश्मीर के अलावा सीमा पार तक जाएगी.

फारुख ने आगे कहा की साम्प्रदायिक ताकतों से लड़ने के लिए सभी धर्मनिरपेक्ष ताकतों का एक होना जरुरी है. तभी कश्मीर को संप्रदायिकता की आग से बचाया जा सकेगा. फारुख के अलावा कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद तारिक हमीद ने बीजेपी पर आरोप लगाया की यह पार्टी मुस्लिमो की सबसे बड़ा दुश्मन संगठन आरएसएस का ही अभिन्न अंग है और पीडीपी ने ऐसी पार्टी से गठबंधन किया है. इसलिए मैंने पीडीपी को छोड़ दिया. आरएसएस न केवल कश्मीर बल्कि कश्मीर की विशिष्टता, एकजुटता और विशेष दर्जा देने के भी खिलाफ है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें
SHARE