देश भर में दलितों और मुस्लिमों पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ आवाज बुलंद करते हुए देश के पूर्व सैनिकों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष चिंता जाहिर की है.

देश की सशस्त्र सेनाओं जल, थल, और वायुसेना के 114 रिटायर्ड सैनिकों ने पत्र में हिंदुत्व की उग्र विचारधारा के जरिए निर्दोष लोगों को हिंसा का शिकार बनाये जाने की कड़ी आलोचना की है. पत्र में सैनिकों ने कहा वो इस बर्बरता के ख़िलाफ़ ‘नॉट इन माय नेम’ कैंपेन के साथ खड़े हैं.

और पढ़े -   गाली से न गोली से, कश्मीर समस्या सुलझेगी कश्मीरियों को गले लगाने से: मोदी

बीबीसी की रिपोर्ट के सनुसार, पूर्व सैनिको ने लिखा कि देश के सशस्त्र बलों का ‘अनेकता पर एकता’ पर अब भी भरोसा बना हुआ है. उन्होंने कहा कि देश की वर्तमान स्थिति डरावनी, नफ़रत भरी और संशय की है.

पूर्व सैनिकों ने कहा, आज हमारे देश में जो हो रहा है उससे देश के सशस्त्र सेनाओं और संविधान को धक्का लगा है. हिंदुत्व की रक्षा के लिए खुद को नियुक्त करने वाले रक्षकों के हमले समाज में बढ़े हैं. इन हमलों को हम समाज में अप्रत्याशित रूप से देख रहे हैं.

और पढ़े -   सरकार लगाने जा रही है एक से अधिक बार हज पर रोक

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE