तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तय्यिप एर्दोगान भारत के दो दिवसीय दौरे पर विवार को नई दिल्ली पहुंचे. सोमवार सुबह राष्ट्रपति भवन में गार्ड ऑफ ऑनर देकर पहले उनका परंपरागत स्वागत किया गया और फिर एर्दोगान और मोदी नई दिल्ली में एक व्यापार कार्यक्रम (इंडिया-टर्की बिजनस फोरम) में शामिल हुए.

भारत-तुर्की बिजनेस समिट को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि विश्व के टॉप 20 अर्थव्यवस्थाओं में भारत और तुर्की के नाम शामिल है. उन्होंने कहा कि दोनों देशों ने अर्थव्यवस्था मजबूत करने में स्थिरता दिकाई है. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि भारत और तुर्की एक अहम साझेदार हैं, मोदी ने कहा कि राजनीतिक रिश्तों में मजबूती के साथ ही अब समय है कि हम अपने आर्थिक रिश्तों को भी मजबूत करें.

और पढ़े -   गैंगरेप मामले में झूठ के जरिये मुजफ्फरनगर की फिजा बिगाड़ने की कोशिश, अफवाह फैलाने वाले शख्स को ट्विटर पर फोलो करते है मोदी

वहीँ तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने कहा कि भारत और तुर्की के बीच संयुक्त व्यापार में संतुलन होना चाहिए और इस दिशा में कदम उठाए जाने चाहिए. एर्दोगन नेकहा, ‘यह बैठक व्यापारिक रिश्तों के एक नए युग की शुरुआत की सूचक है.’

एर्दोगन ने कहा कि दोनों देश अनुसंधान समेत कई क्षेत्रों में एक-दूसरे की मदद कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि उनका देश बुनियादी ढांचे के तेज विकास की जरूरत में भारत की मदद कर सकता है. उन्होंने कहा, ‘संयुक्त व्यापार में संतुलन होना चाहिए और इस दिशा में कदम उठाए जाने चाहिए.’

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमों की सुप्रीम कोर्ट से अपील, तिब्बतियों और तमिलों की तरह हो बर्ताव

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE