शिवसेना ने महाराष्ट्र में गहराते जल संकट और सूखे की मार से पीड़ित जनता को राहत देते में नाकाम रहने पर राज्य सरकार को आड़े हाथों लिया है। शिवसेना ने मुख्यमंत्री के एक बयान पर निशाना साधते हुए कहा कि सिर्फ भारत माता की जय बोलने से सूखा खत्म नहीं होने वाला। इसके लिए लोगों को पानी की पर्याप्त व्यवस्था मुहैया कराने की जरूरत है।

और पढ़े -   वाराणसी के बीएचयु अस्पताल में मरीज को ऑक्सीजन की जगह दी दूसरी गैस, हुई मौत, ऑक्सीजन सप्लाई करने का ठेका बीजेपी विधायक की कंपनी को

अपने मुखपत्र सामना में लिखे एक संपादकीय के जरिए शिवसेना ने राज्य सरकार पर हमला किया। सामना ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए लिखा, ‘अब पानी के टैंकर पर पुलिस का पहरा लगाने का वक्त आ गया है। सिर्फ ‘भारत माता की जय’ बोलने से सूखे की मार को कम नहीं किया जा सकता। इसके लिए इंसान का जिंदा रहना जरूरी है।’

और पढ़े -   स्मृति ईरानी पर भड़के पहलाज निहालानी, कहा - ‘इंदु सरकार’ के चलते मुझे हटाया गया'

गौरतलब है कि हाल ही में महाराष्ट्र में हुए एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कहा था ‘कुर्सी छोडूंगा लेकिन भारत माता की जय कहूंगा।’ मुख्यमंत्री के इसी बयान को आड़े हाथों लेते हुए शिवसेना ने उन पर हमला बोला। सामना ने लिखा, ‘अगर इसकी बजाया पानी दूंगा नहीं तो कुर्सी छोडूंगा कहा होता तो अच्छा होता।’

महाराष्ट्र में फिलहाल भाजपा-शिवसेना की गठबंधन की सरकार है लेकिन राज्य सरकार के कई फैसलों पर शिवसेना ने अपना ऐतराज जताने में गुरेज नहीं किया है। इतना ही नहीं शिवसेना लगातार केंद्र के फैसलों पर भी निशाना साधती रही है। इस समय पूरा महाराष्ट्र भीषण सूखे की चपेट में है और पानी को लेकर जनता के बीच त्राहि त्राहि की स्थिती बनी हुई है।

और पढ़े -   कर्नल पुरोहित ने सेना के गौदाम से चुराया था RDX, मालेगांव ब्लास्ट में हुए था इस्तेमाल

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE