साथी डॉ ए. के अरुण ने भी डॉ प्रेम सिंह के उपवास के समर्थन में जंतर-मंतर पर पहुंच कर अपना समर्थन जताया

Posted by Socialist Wall on Tuesday, 27 June 2017

देश भर में भगवा आतंकियों द्वारा मुस्लिमों को निशाना बना कर की जा रही हत्याओं के विरोध में दिल्ली विश्वविद्यालय में हिन्दी के प्राध्यापक तथा जाने-माने लेखक और विचारक व सोशलिस्ट पार्टी इण्डिया के अध्यक्ष प्रेम सिंह ने जंतर मंतर पर अपनी भूख हड़ताल शुरू कर दी है.

डॉ.प्रेम सिंह ने देश की ग्राम पंचायतों, नगर पालिकाओं, मजदूर, किसान व छात्र संगठनों, सामाजिक-धार्मिक संस्थाओं एवं स्वतंत्र नागरिकों से अनुरोध कि. है कि वे भीड़-हत्याओं की गंभीर समस्या पर संजीदगी से विचार करें और उसे रोकें.

डॉ. प्रेम सिंह ने कहा “आज ‘not in my name‘ के नाम से जंतर मंतर पर शाम 6 बजे नागरिकों का भीड़-हत्याओं के विरोध में मार्च होगा. ऐसा संदेश है कि देश के अन्य शहरों में भी नागरिक यह कार्यक्रम रखेंगे. यह बहुत अच्छा प्रयास है। दिल्ली के ज्यादा से ज्यादा लोगों को इसमें भाग लेना चाहिए. इस तरह के कार्यक्रमों के आयोजन में हम गाँवों, कस्बों, छोटे शहरों को भूल जाते हैं. आगे यह आयोजन वहां भी होना चाहिए. वह ज्यादा जरूरी है. मेरा आज के मार्च में हिस्सा लेने वाले दिल्ली के नागरिकों से निवेदन है कि वे अगले तीन दिन उपवास स्थल पर आयें और एक-एक दिन का उपवास रखें.“

उन्होंने कहा “आज अपने राजनीतिक शिक्षक समाजवादी चिंतक किशन पटनायक की बहुत याद आ रही है. उन्होंने देश के राजनीतिक कार्यकर्ताओं और बुद्धिजीवियों के दिमाग पर लगातार दस्तक दी कि 1991 के बाद बनने वाले नवसाम्राज्यवादी-सांप्रदायिक गठजोड़ के बरक्स वैकल्पिक राजनीति ही एक मात्र रास्ता है. हमें हैरत और चिंता में डाल देने वाल यह जो मलबा भारत की संवैधानिक व्यवस्था और सभ्यता पर गिरा है, हमारी वैकल्पिक राजनीति नहीं खड़ा कर पाने की असफलता का नतीज़ा है.“


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE