aimplb-759

तीन तलाक को लेकर चल रही बहस के बीच ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड तलाकशुदा महिलाओं को गुज़ारा भत्ता देने की मांग पर विचार किया जा रहा हैं.

18 से 20 नवंबर को होने वाले बोर्ड के तीन दिवसीय वार्षिक सम्मलेन में इस मसले को उठाये जाने की संभावना हैं. याद रहें कि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड तीन तलाक पर प्रतिबंध के खिलाफ हैं. ऐसे में तलाकशुदा महिलाओं को गुज़ारा भत्ता देने की मांग पर बोर्ड समर्थन दे सकता हैं.

और पढ़े -   एजेंडा तो हिंदू राष्ट्र का और राष्ट्रपति दलित, मनुस्मृति राज में दलित प्रेसिडेंट से कोई फर्क नही पड़ेंगा

मुस्लिम समाज में ज्यादातर तीन तलाक के सामाजिक मुद्दे होते हुए भी अदालत पहुंच जाते है. अब ऐसे में बोर्ड को लगता हैं कि तलाकशुदा महिलाओं के गुज़ारे भत्ते की व्यवस्था करने के बाद ये मामले अदालत में नहीं पहुंचेगे.

लखनऊ से एक बोर्ड के सदस्य ने इस विचार को इस्लामी शरीयत के अनुसार बताते हुए कहा कि हजरत उमर फारूक के शासन के दौरान, ऐसी महिलाओं को बैतूल माल से गुज़ारा भत्ता दिया जाता था. हम भी इस तरह के उपायों को अपनाने का प्रयास करेंगे.

और पढ़े -   जानिये क्या हुआ जब योग करते हुए स्वास्थ्य मंत्री का हाथ छु गया वसुंधरा राजे का हाथ..

उन्होंने आगे बताया कि प्रस्ताव में केवल उन तलाकशुदा महिलाओं को ही गुज़ारा भत्ता देने पर विचार किया जा रहा हैं. जिनकी दोबारा निकाह नहीं हुआ. और जो आर्थिक रूप से जिंदगी गुजारने में सक्षम नहीं है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE