Irfan-Habib

AMU के इतिहासकार प्रो. इरफान हबीब ने कहा कि देश में एएमयू में लड़कियों के साथ भेदभाव होता है। उन्होंने लड़कियों के साथ भेदभाव को खत्म करने की मांग की हैं। इरफान हबीब के अनुसार AMU में लड़कियों का एडमिशन 75 प्रतिशत और लड़कों का एडमिशन 65 प्रतिशत पर होता है।

लड़कियो को ज्यादा अंक होने के बावजूद भी कम एडमिशन मिलते है जबकि लड़कों को कम अंको पर भी एडमिशन मिल जाता है. उन्होंने आगे कहा कि लड़कों की तुलना में लड़कियों के लिए हॉस्टल में कम जगह है। इरफान हबीब के इस बयान ने कुलपति के सामने नई मुसीबत खड़ी कर दी हैं।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें