हैदराबाद: इस साल जनवरी महीने में आत्महत्या करने वाले दलित छात्र रोहित वेमुला की मां गुरुवार रात हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार पर धरने पर बैठ गई हैं। उन्हें बुधवार को पुलिस लाठीचार्ज में घायल हुए छात्रों से मिलने के लिए परिसर में प्रवेश की इजाजत नहीं दी, जिसके विरोध में उन्होंने यह कदम उठाया।

हैदराबाद विश्वविद्यालय में प्रवेश की इजाजत नहीं दिए जाने पर रोहित वेमुला की मां धरने पर बैठींविश्वविद्यालय के मुख्य सुरक्षा अधिकारी टी. वी. राव ने बताया कि राधिका वेमुला परिसर के अंदर धरना देना चाहती थीं, लेकिन उन्हें परिसर में प्रवेश करने से रोक दिया गया। राव ने बताया, ‘वह परिसर के भीतर धरना देना चाहती थीं। हमने उन्हें प्रवेश करने से रोक दिया। वह करीब 20 छात्रों के साथ विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार के बाहर ही धरने पर बैठ गई हैं।’

रोहित के छोटे भाई राजा वेमुला ने बताया कि उनकी मां कल पुलिस के लाठीचार्ज में घायल हुए छात्रों से मिलना चाहती थीं। उन्होंने उसे परिसर में प्रवेश नहीं करने दिया, इसलिए वह धरने पर बैठ गई।

इससे पहले हैदराबाद विश्वविद्यालय में प्रदर्शन कर रहे छात्रों के साथ एकजुटता दिखाने जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार भी वहां पहुंचे थे, लेकिन उन्हें भी विश्वविद्यालय परिसर में दाखिल होने नहीं दिया गया। यूनिवर्सिटी में तनाव भरे माहौल के मद्देनजर वहां कैंपस में किसी बाहरी को घुसने पर पाबंदी लगा रखी है।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें