नई दिल्ली | अंग्रेजी न्यूज़ चैनल के मशहूर एंकर और हाल ही में शुरू हुए ‘रिपब्लिक’ न्यूज़ चैनल के मालिक अर्नब गोस्वामी को दिल्ली हाई कोर्ट ने कड़ी फटकार लगाई है. हाई कोर्ट ने तल्ख़ टिप्पणी करते हुए कहा की आप भाषणबाजी कम कीजिये और तथ्यों को सामने रखिये. दिल्ली हाई कोर्ट ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री शशि थरूर की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की.

दरअसल अर्नब गोस्वामी ने अपने चैनल ‘रिपब्लिक’ पर एक विशेष कार्यक्रम के दौरान शशि थरूर को लेकर एक खुलासा किया था. अर्नब ने दावा किया था की शशि थरूर अपनी पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत के बाद उनके कमरे में गये थे और उन्होंने वहां सबूतों से छेड़छाड़ की थी. अर्नब ने यह भी दावा किया था की इस दौरान सुनंदा पुष्कर की लाश को भी इधर से उधर किया गया था.

अर्नब का दावा था की इस बात के उनके पास पक्के सबूत है. उनका दावा था की चैनल के पास 19 ऑडियो रिकॉर्डिंग है जो कभी सार्वजानिक नही हुई है.  इस बड़े खुलासे के बाद शशि थरूर ने 27 मई को दिल्ली हाई कोर्ट में अर्नब के खिलाफ दो करोड़ रूपए का मानहानि का मुकदमा किया था. इसी मामले की सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने अर्नब और उनके चैनल को नोटिस जारी करते हुए उनसे तथ्य दिखाने को कहा. कोर्ट ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा की आप अपने चैनल पर ऐसे किसी का नाम नही ले सकते.

बताते चले की तीन साल पहले शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की लाश एक पांच सितारा होटल में मिली थी. पिछले तीन सालो से इस मामले की जांच चल रही है लेकिन इस मामले में पुलिस के हाथ कोई भी सबूत नही मिले है. यही नही इस मामले की जांच अमेरिकी जाँच एजेंसी ऍफ़बीआई के पास भी भेजी गयी लेकिन वहां से भी कोई खुलासा नही हो पाया. हालाँकि इस पुरे घटनाक्रम में शशि थरूर भी शक के दायरे में रहे है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE