नई दिल्ली | फ़िलहाल दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के ऊपर मुसीबत के बादल छाए हुए है. पहले उनकी ही सरकार में मंत्री रहे कपिल मिश्रा ने उनके ऊपर भ्रष्टाचार और रिश्वत लेने के आरोप लगाये और अब दिल्ली पुलिस के सिपाही से उनको जान से मारने की धमकी मिली है. इसके अलावा उनके कार्यालय में काम कर रहे ज्यादातर अधिकारियो ने वहां काम करने से इनकार कर दिया है.

मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार रात को किसी शख्स ने पुलिस नियंत्रण कक्ष में फ़ोन कर अरविन्द केजरीवाल को जान से मारने की धमकी दी. धमकी मिलते ही दिल्ली पुलिस के हाथ पाँव फुल गए और उन्होंने आनन फानन में यह मामला स्पेशल सेल एवं गुप्तचर एजेंसी को सौप दिया. मामले की जांच के दौरान खुलासा हुआ की जिस फ़ोन से धमकी मिली थी की दिल्ली पुलिस के एक सिपाही विकास के नाम पर है.

और पढ़े -   मोदी सरकार ने अब प्लेटफार्म टिकट के दोगुने किए दाम

विकास मूलतः बहादुरगढ़ का रहने वाला है और मालवीय नगर स्थित सातवी बटालियन में सिपाही के पद पर कार्यरत है. पुलिस ने विकास को हिरासत में लेकर जब पूछताछ की तो उसने बताया की शुक्रवार को उसने किसी शख्स को अपनी बाइक से लिफ्ट दी थी और उसने ही मेरे फ़ोन से यह धमकी दी. लेकिन पुलिस को विकास की बात पर यकीन नही हुआ और उसकी मेडिकल जांच कराई गयी.

और पढ़े -   हिन्दू से मुस्लिम बनी दलित दंपत्ति को मिल रही जान से मारने की धमकी, पत्र लिख योगी सरकार से की सुरक्षा की मांग

मेडिकल जांच में विकास के शराब पीने की पुष्टि हुई. पुलिस को शक है की विकास ने शराब के नशे में खुद ही फ़ोन किया होगा. फ़िलहाल मामले की जांच जारी है और केजरीवाल के आवास की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है. उधर केजरीवाल को एक और मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है. दरअसल मुख्यमंत्री कार्यालय के ज्यादातर अधिकारियो ने सीबीआई के डर से केजरीवाल के साथ काम करने से मना कर दिया है. फ़िलहाल मुख्यमंत्री कार्यालय में कोई काम नही हो रहा है. इसलिए केजरीवाल ने अनुबंध पर बाहर से अधिकारी नियुक्त करने का फैसला किया है.

और पढ़े -   अच्छे दिन के बदले फिर से महंगाई की मार, थोक महंगाई दर में दोगुनी वृद्धि

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE