phpThumb_generated_thumbnail (2)

सहारनपुर। उत्तर प्रदेश में सहारनपुर जिले के देवबंद स्थित इस्लामिक संस्था दारूल उलूम देवबंद ने बांग्लादेश की राजधानी ढाका व सऊदी अरब के मदीना मस्जिद के बाहर हुए आतंकवादी हमले की निंदा करते हुए कहा कि बेगुनाहों की हत्या निंदनीय और इस्लाम के खिलाफ है।

दारूल उलूम के पूर्व मोहतमिम एवं प्रबंध समिति के सदस्य मौलाना गुलाम मोहम्मद वस्तानवी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इस्लाम में किसी भी बेगुनाह की हत्या को पूरी मानवता की हत्या के बराबर माना गया है।

दारूल उलूम ने बांग्लादेश की राजधानी ढाका और सऊदी अरब के मदीना में पैगम्बर मोहम्मद मस्जिद के बाहर हुए आतंकी हमलों की कड़े शब्दों में निंदा की। उन्होंने कहा, “आतंकी हमला मस्जिद पर हो या मंदिर पर, मुस्लिम पर हो या हिंदू पर, किसी भी सूरत में उचित नहीं है।”

मौलाना वस्तानवी ने कहा कि हमले कोई भी कर रहा है, उसे पसंद नहीं किया जा सकता। आतंकियों को समर्थन देने वाले के खिलाफ भी सख्ती से पेश आना चाहिए।

दारूल उलूम देवबंद के जनसंपर्क अधिकारी अशरफ उस्मानी ने कहा कि रमजान का महीना सब्र और इबादत का महीना है। इस दौरान बेगुनाहों की हत्या अत्यंत निंदनीय और पूरी तरह से इस्लाम के खिलाफ है। उन्होंने बांग्लादेश की राजधानी ढाका के पॉश इलाके में गत शुक्रवार को हुए आतंकी हमले में जान गंवाने वालों के प्रति शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि दारूल उलूम आतंकी हमलों की कड़े शब्दों में निंदा करता है। गौरतलब है कि एक जुलाई को ढाका में हुए आतंकी हमले में फिरोजाबाद की रहने वाली युवती तारिषी जैन समेत 20 लोगों की मौत हो गई, जिनमें 18 विदेशी थे।

(इनपुट्स – देशबन्धु)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें