934792-hafizsaeed-1439103869

बरेली की विश्व प्रसिद्द दरगाह आला हजरत से पाकिस्तान के आतंकी संगठन जमात उद दावा के चीफ हाफिज सईद के खिलाफ फतवा जारी किया गया. जिसमे मुसलमानों को उससे और उसकी तकरीरों से दूर रहने को कहा गया.

राजस्थान में जयपुर के रहने वाले मुहम्मद मुईनुद्दीन ने दरगाह आला हजरत से सवाल किया था कि आतंकी संगठन जमात उद दावा का संस्थापक हाफिज सईद, जो गुमराह अकायद और विचारधारा का प्रचारक है, लोगों को खून-खराबे, आतंकी घटनाओं के लिए उकसाता है, क्या ऐसे शख्स को मुसलमान माना जा सकता है? क्या ऐसे शख्स की बातों और तकरीरों (भाषणों) को सुनना जायज है ?

और पढ़े -   अब गाय के गोबर और मूत्र पर शोध करवाएगी मोदी सरकार, हर्षवर्धन की अध्यक्षता में हुआ कमिटी का गठन

आला हजरत दरगाह के मुख्य मुफ़्ती सलीम नूरी ने कहा कि हाफिज सईद और उसे अपना रहनुमा मानने वाले को इस्लाम से ख़ारिज कर दिया गया है. इतना ही नहीं फतवे में कहा गया है कि उसकी तकरीरें सुनना भी इस्लाम में हराम है.

नूरी ने कहा कि हाफिज सईद की विचारधारा आतंकी है और वह गुस्ताख-ए-रसूल है. लिहाजा इस्लाम ऐसे शख्स और उसके रहनुमाओं को मुसलमान नहीं मानता. उन्होंने कहा उसकी तकरीरों को सुनना भी नाजायज है.

और पढ़े -   विवादित स्वामी ओम की भीड़ ने जमकर की पिटाई , कार में भी की गयी तोड़फोड़

मुफ्ती मुहम्मद सलीम नूरी ने पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि अल्लाह और उसके रसूल की शान में गुस्ताखी करने वाले इस्लाम से ऐसे खारिज हैं और उनके कुफ्र और अजाब पर शक करने वाले भी काफिर हैं.

पाकिस्तानी आतंकी हाफिज सईद भी ऐसा ही एक शख्स है, जिससे किसी तरह के भी रिश्ते नहीं रखे जा सकते, जो मुसलमान रखेगा, इस्लाम से खारिज हो जाएगा

और पढ़े -   तीन सालो में बेरोजगारों के नहीं आये 'अच्छे दिन', मोदी सरकार रोजगार पैदा करने के मामले में मनमोहन सरकार से बहुत पीछे

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE