लगातार सामने आ रहे रेल हादसों से भी केंद्र सरकार कोई सबक नहीं ले रही है. एक बार फिर से बड़ा रेल हादसा होने से बचा है.

दरभंगा से मुंबई जा रही एक्सप्रेस ट्रेन के ब्रेक फ़ैल होने के बावजूद भी ट्रेन को करीब 350 किमी तक ऐसे ही दौड़ाया गया. इस ट्रैन में 2000 पैसेंजर सवार थे.

दरभंगा से मुंबई जाने वाली इस ट्रेन के 21 डिब्बों में से 19 का ब्रेक फेल था. ट्रेन को वाराणसी तक करीब 350 किमी. ऐसी ही हालत में दौड़ाया गया.

और पढ़े -   बुलेट ट्रेन को लेकर आशुतोष राणा का तंज कहा, उधार की 'चुपड़ी' रोटी से अच्छी श्रम से अर्जित की गयी 'सुखी' रोटी

ट्रैन में ब्रेक फेल होने पर रेलवे बोर्ड के मेंबर आरएल गुप्ता ने ईस्ट सेंट्रल रेलवे के चीफ मकैनिकल इंजिनियर को चिट्ठी लिखकर इस बारे में जानकारी दी. लेकिन अधिकारी इस तरह की कोई सूचना मिलने की खबर से इनकार कर रहे हैं. रेलवे के दो सीपीआरओ ने इस तरह की घटना से इंकार किया है.

रेलवे बोर्ड के सदस्य आरएल गुप्ता ने 13 सितंबर को हाजीपुर के ईस्ट सेंट्रल रेलवे के चीफ मैकेनिकल इंजीनियर को पत्र लिखकर कहा था कि मुंबई जाने वाली दरभंगा-लोकमान्य तिलक टर्मिनस एक्सप्रेस के 21 में से 19 कोच के ब्रेक्स में पावर नहीं थी.

और पढ़े -   गैंगरेप मामले में झूठ के जरिये मुजफ्फरनगर की फिजा बिगाड़ने की कोशिश, अफवाह फैलाने वाले शख्स को ट्विटर पर फोलो करते है मोदी

पत्र में लिखा गया था कि ये गंभीर मामला था, जो बड़े हादसे की वजह बन सकता है. हालांकि नॉर्दर्न सेंट्रल रेलवे के चीफ पीआरओ राजेश कुमार ने ऐसी कोई जानकारी होने से साफ़ मना किया है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE