नोएडा। दादरी के बिसाहड़ा गांव में बीफ कांड के एक आरोपी को पुलिस ने क्लीन चिट दे दी है। बताया जा रहा है कि जिस दादरी के बिसाहड़ा गांव में अखलाक की हत्या की गई थी उस वक्त आरोपी गांव में था ही नहीं। बता दें कि पुलिस ने अखलाक हत्याकांड में पुलिस ने 15 लोगों को आरोपी बनाया था। अब मामले में केवल 14 लोग ही आरोपी बचे हैं।

Dadri incident

दादरी के डीएसपी आनंद सिंह का कहना है कि इस माामले में आरोपी बनाए गए सोनू सिसौदिया को क्लीन चिट दी गई है। जांच में पाया गया है कि जिस वक्त बेकाबू भीड़ ने अखलाक के घर पर हमला किया था उस वक्त आरोपी एक शापिंग मॉल में था। आरोपी के खिलाफ लगाए गए चार्ज हटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और इस बारे में अदालत को अवगत करा दिया गया है। हालांकि अभी सोनू को जेल से रिहा नहीं किया गया है, लेकिन उसकी रिहाई की कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

बता दें कि 28 सितंबर 2015 को दादरी इलाके के एक मंदिर में घोषणा की गई कि गाय का एक बछड़ा मार दिया गया है, और इसके बाद भीड़ ने 52 वर्षीय मोहम्मद अखलाक को उसके घर से बाहर घसीटा और पीट-पीटकर मार डाला। भीड़ ने अखलाक के पुत्र दानिश को भी पीटा, जिसके इलाज के लिए कई ऑपरेशन किए जा चुके हैं।

इस भीड़ को कथित रूप से कुछ ऐसे युवाओं ने भड़काया था, जिनके ताल्लुकात स्थानीय बीजेपी नेता संजय राणा से थे और अब चार्जशीट में नामजद लोगों में से एक संजय राणा का पुत्र विशाल है। सूत्रों का कहना है कि चार्जशीट में ‘गोमांस’ शब्द का उल्लेख नहीं किया गया है। बता दें कि कथित बीफ की फारेंसिक जांच भी की गई, जिसमें साबित हो गया था कि वह बीफ नहीं मटन था। (Patrika)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें