नई दिल्ली | छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुए नक्सली हमले में CRPF के 25 जवान शहीद होने के बाद , पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में तैनात एक CRPF जवान ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह पर सवाल उठाये है. जवान ने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखकर अपना गुस्सा जाहिर किया. उनका कहना है की सुकमा हमले में शहीद हुए CRPF के जवानों में एक उसका रिश्तेदार भी था. अब इसी मामले में एक नया मोड़ आया है.

राजनाथ सिंह पर सवाल उठाने वाले इस जवान ने दिल्ली हाई कोर्ट ने याचिका डाल कोर्ट से सुरक्षा की गुहार लगायी है. दरअसल आरा के रहने वाले पंकज कुमार मिश्रा , पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में CRPF की 221वी बटालियन में तैनात है. सुकमा में नक्सली हमलें के बाद पंकज ने फेसबुक पर एक विडियो और पोस्ट लिखकर बताया था की इस हमले में उसका एक रिश्तेदार अभय कुमार भी शहीद हो गया.

पंकज ने आगे कहा की उनको यह नही भूलना चाहिए की यही CRPF जवान अमित शाह जैसे बड़े बड़े राजनेताओ को सुरक्षा देते है. हमने मोदी जी को वोट दिया था, बीजेपी को नही. लेकिन राजनाथ सिंह जैसे नेता मोदी जी को बरगला रहे है. मैं गृह मंत्री से आग्रह करता हूँ की वो एक बार मारे गए जवानों के परिवार से भी मिले. इसके अलावा पंकज मिश्र ने बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव की विडियो का भी समर्थन किया.

विडियो जारी करने के बाद पंकज ने गुरुवार को दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दाखिल गुहार लगायी की उन्हें सुरक्षा प्रदान की जाये. इसके अलावा पंकज ने आत्मसमपर्ण करनी की भी इच्छा जताई. पंकज की याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस आशुतोष कुमार ने CRPF महानिदेशक को आदेश दिया की वो पंकज का आत्मसमर्पण स्वीकार करे. इसके अलावा कोर्ट ने CRPF से पंकज के साथ मारपीट न करने की भी नसीहत दी.

कोर्ट ने पंकज से शनिवार तक आत्मसमपर्ण करने के लिए कहा है. दरअसल विडियो पोस्ट करने के बाद से ही पंकज फरार है. इसका कारण बताते हुए पंकज ने कहा की मुझे बटालियन में जान का खतरा था इसलिए मैं फरार हो गया. उधर पूरे मामले पर CRPF ने कहा की पंकज की यह विडियो झूठा है और सत्य से परे है. पंकज ने इस तरह की विडियो पोस्ट कर अनुशासनहीनता की है. इसलिए उनके खिलाफ अनुशासानात्मक कार्यवाही की जाएगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE