हैदराबाद | पिछले काफी महीनो से गाय को लेकर पुरे देश में हो हल्ला मचा हुआ है. जहाँ कुछ संगठन और राजनितिक दल गाय को राष्ट्रिय पशु घोषित करने और गौमांस पर प्रतिबंध लगाने की मांग कर रहे है वही कुछ राज्य सरकारे इसके विरुद्ध आवाज उठा रही है. इसी बीच हैदराबाद हाई कोर्ट के जज ने गाय को लेकर बड़ी टिपण्णी की है. उन्होंने गाय को माँ और भगवान तुल्य बताते हुए इसे राष्ट्रिय पशु घोषित करने की बात कही है.

शुक्रवार को एक व्यवसायी की याचिका पर सुनवाई करते हुए हैदराबाद हाई कोर्ट के जज बी शिवा शंकर राव ने कहा की गाय पवित्र राष्ट्रिय धरोहर है और यह माँ और भगवान् की जगह पर है. इसलिए गाय को राष्ट्रिय पशु का दर्जा मिलना चाहिए. दरअसल पशु व्यापारी रामावत हनुमा ने हाई कोर्ट में अपील कर अपनी 63 गायो की कस्टडी उसे देने की मांग की थी. इससे पहले रामावत निचली अदालत में भी गुहार लगा चुके थे.

लेकिन निचली अदालत ने उनकी याचिका ख़ारिज कर दी थी. इसके बाद रामावत ने हाई कोर्ट का रुख किया. अपनी याचिका में रामावत ने बताया की वह गायो को चराने के लिए पड़ोस के गाँव कंचनपल्ली गया था जहाँ उसकी 63 गायो को जब्त कर लिया गया. जबकि गाँव वालो का कहना है की रामावत गायो को बेचने के लिए ले जा रहा था जिससे की वो बकरीद के समय गौमांस बेचकर पैसे कमा सके.

इस याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस बी शिवा शंकर राव ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए इसे ख़ारिज कर दिया. सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा था की बकरीद के मौके पर मुस्लिमो को स्वस्थ गाय को मारकर उसका मांस खाने का कोई अधिकार नही है. इसके अलावा जस्टिस राव ने उन सभी डॉक्टर्स के खिलाफ भी कार्यवाही करने को कहा जो स्वस्थ गाय को दूध देने में असमर्थ होने का सर्टिफिकेट देते है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE