मुरादाबाद | एक तरफ पुरे देश में गौरक्षा के नाम पर भीड़ बर्बरता पर उतारू हो रही है वही असली गौरक्षक चुपचाप गाय की सेवा में लगे हुए है. जैसा की प्रधानमंत्री मोदी भी मानते है की ज्यादातर गौरक्षक , गौरक्षा ने नाम पर अपनी दूकान चला रहे है इसलिए एक खास समुदाय के लोगो को निशाना बनाया जा रहा है. लेकिन कई ऐसी घटनाए भी सामने आई है जब इस समुदाय के लोगो ने ही असली गौरक्षक का फर्ज निभाते हुए कई गायो की जान बचाई है.

और पढ़े -   उर्दू पूरे हिंदुस्तान की जुबान, राजनीति ने सिर्फ मुसलमानों की बना दिया: हामिद अंसारी

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में भी इस तरह की एक घटना सामने आई है जब मुस्लिम समुदाय के लोगो ने गौरक्षक का फर्ज निभाते हुए एक गाय की जान बचाई. ऐसा कर उन्होंने न केवल साम्प्रदायिक सोहार्द की एक मिसाल पेश की बल्कि उन लोगो के मुंह पर भी एक जोरदार तमाचा रसीद किया जो मुस्लिम समुदाय को गाय का हत्यारा सिद्ध करने पर तुले हुए है. यह घटना रविवार की बतायी जा रही है.

और पढ़े -   स्वतंत्रता दिवस पर चीनी सेना की लद्दाख में घुसपैठ, भारतीय सैनिकों पर भी किया पथराव

दरअसल मुरादाबाद के शाहाबाद रोड के पास एक कब्रिस्तान स्थित है. इस कब्रिस्तान में अक्सर पशु घास चरने आते रहते है. रविवार को यहाँ किसी कब्र के पास एक गड्ढा खुदा हुआ था. इस दौरान एक गाय घास चरने आई तो वो इस गड्ढे में जा गिरी. वह गाय इस गड्ढे में करीब एक घंटे तक पड़ी रही लेकिन किसी की नजर उस पर नही गयी. तभी वहां से गुजर रहे एक मुस्लिम व्यक्ति ने गाय को गड्ढे में गिरे देखा तो उसने तुरन्त 100 नम्बर पर फ़ोन मिलाया.

और पढ़े -   स्वतंत्रता दिवस : लाल किले की प्राचीर से मोदी का भाषण , किया कश्मीर से लेकर तीन तलाक का जिक्र

इसके बाद उस शख्स ने अपने समुदाय के कुछ लोगो को वहां बुलाया और गाय को निकालने की कोशिश करने लगे. इस दौरान वहां पुलिस भी पहुँच गयी. मुस्लिम समुदाय और पुलिस ने करीब डेढ़ घंटे की मसक्कत के बाद गाय को गड्ढे से निकाल लिया. इलाके के कोतवाली इंचार्ज अजीत सिंह ने बताया की गाय को बाहर निकालने में मुस्लिम समुदाय के लोगो ने काफी मदद कर भाईचारे की एक मिसाल कायम की है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE