नोटबंदी का विरोध अब तक पॉलिटिकल पार्टियां कर रही थी लेकिन अब इसके विरोध की आवाजें समृध कॉरपोरेट घरानों से भी सुनाई देने लगी है. बजाज आटो के प्रबंध निदेशक राजीव बजाज ने गुरुवार को कहा कि नोटबंदी का विचार सही नहीं था, ऐसे में इसके क्रियान्वयन को दोष देना सहीं नहीं है.

बजाज ने यहां नॉस्कॉम के वार्षिक लीडरशिप सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘यदि समाधान और विचार ही सही हो, तो आप मक्खन में चाकू चलाने की सुगमता से काम कर सकते हो. यदि विचार काम नहीं कर रहा है, जैसे नोटबंदी, तो क्रियान्वयन को दोष न दें. मेरा मानना है कि आपका विचार ही गलत है.’’

और पढ़े -   रोहिंग्या मामले पर हमने सुप्रीम कोर्ट में कोई हलफनामा नही दिया - रिजीजू

बजाज आटो की घरेलू बिक्री जनवरी महीने में (दोपहिया और तिपहिया सहित) 16 प्रतिशत घटकर 1,35,188 इकाई रह गई. इससे एक साल पहले समान महीने में कंपनी ने 1,61,870 इकाइयों की बिक्री की थी. याद रहें बजाज ऑटो देश की सबसे बड़ी दोपहिया वाहनों की कंपनियों में शामिल है. लेकिन नोटबंदी का खामियाजा इस सेक्टर को भुगतना पड़ा है.

बजाज ने मेक इन इंडिया पर भी निशाना साधते हुए इसे मैड इन इंडिया का नाम दिया. उन्होने कहा नियामक एजेंसी और लंबी सरकारी प्रक्रिया मेक इन इंडिया को मैड इन इंडिया साबित कर देंगी. कार्यक्रम में उन्होने बताया कि किस तरीके से 4 साल बीत जाने पर भी बजाज को बाजार में चार पहिया वाहन उतारने की इजाजत नहीं मिल पाई है.

और पढ़े -   पत्रकारों के सवाल पर आग बबूला हुए आसाराम ने खुद को बताया 'गधा'

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE