kanhiya-1

जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार कुलपति के उस बयान का विरोध किया जिसमें उन्होंने कैंपस में जारी भूख हड़ताल को गैरकानूनी कहा था. कन्हैया कुमार और उनके साथी 9 फरवरी को हुई घटना पर विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से लगाए गए दंड का विरोध करते हुवे भूख हड़ताल पर बेठ गए थे.

भूख हड़ताल पर जेएनयू के वीसी जगदीश कुमार ने लिखित अपील जारी करते हुए कहा था कि वह छात्रों के खराब स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं. भूख हड़ताल गैरकानूनी गतिविधि है और विरोध जताने का नुकसानदायक तरीका है. उन्होंने छात्रों से भूख हड़ताल खत्म करने की अपील की थी.

और पढ़े -   आडवाणी का राष्ट्रपति बनने का सपना टुटा, बिहार के राज्यपाल होंगे एनडीए की ओर से उम्मीदवार

कन्हैया ने ट्वीट करके कहा, ‘जेएनयू के वीसी कह रहे हैं कि भूख हड़ताल गैरकानूनी है. इसका मतलब ये हुआ कि गांधी और भगत सिंह भी गैरकानूनी थे?’


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE