vali

आल इंडिया मुस्लिम पसर्नल लॉ बोर्ड समेत नौ संगठनों ने समान नागरिक संहिता और तीन बार तलाक के मुद्दे पर सरकार के फैसले का विरोध करने का फैसला किया हैं. बोर्ड ने कहा कि वे इस संबंध में विधि आयोग की प्रश्नावली का जवाब नहीं देंगे.

मुस्लिम पसर्नल लॉ बोर्ड ने साफ तौर पर कहा है कि समान नागरिक संहिता देश के लिए सही नहीं है और इस मसले पर सरकार हमारे साथ धोखाधड़ी कर रही है. बोर्ड का कहना है कि सरकार का यए कदम देश की एकता के लिए खतरा है और देश को तोड़ने वाला है. सरकार ध्यान भटकाने के लिए ये काम कर रही है.

ऑल इंडिया मुस्लिम पसर्नल लॉ बोर्ड के महासचिव मौलाना मोहम्मद वली रहमानी ने कहा कि हम लोग विधि आयोग द्वारा तैयार की गई प्रश्नावली को खारिज करते हैं और हम इसका कोई जवाब नहीं देंगे. उन्होंने कहा कि विधि आयोग की इस प्रश्नावली का वास्तविक मकसद मुस्लिम पर्सनल लॉ को समाप्त करना है और यह प्रश्नावली लोगों को भ्रमित करने के लिए तैयार की गई है.

उन्होंने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 44 का उल्लेख कर समान नागरिक संहिता को संवैधानिक दर्जा देने की कोशिश की गई है, जो नीति निर्देशक तत्वों के खिलाफ है और इसे लागू नहीं किया जा सकता है. संविधान के मौलिक अधिकार के अनुच्छेद 25 के तहत हर व्यक्ति को अपने मन पसंद धर्म को चुनने, उसका प्रचार करने और उसे अपनाने का अधिकार है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें