नई दिल्ली | दुनिया में एक शक्ति के रूप में उभर रहा चीन , आजकल भारत और अमेरिका के बीच बढती नजदीकियों की वजह से काफी चिंतित नजर आ रहा है. यही कारण ही की चीन ने कई बार भारत को अमेरिका से दूरी बनाने की सलाह भी दी है. इसके अलावा उकसावे की रणनीति अपनाते हुए उसके सैनिक आये दिन भारत की सीम में घुसपैठ करते रहते है. अभी हाल ही में उन्होंने कैलाश मानसरोवर यात्रा पर गए एक जत्थे को भी बीच में ही रोक दिया.

और पढ़े -   पीएम मोदी ने जापानी पीएम शिंजो आबे के साथ मिलकर रखी पहली बुलेट ट्रेन नींव

अब चीनी मीडिया ने भी भारत को चेतावनी भरे लहजे में कहा है की अमेरिका के तथाकथित समर्थन की वजह से भारतीय सैनिक सिक्किम क्षेत्र में सीमा पार कर रहे है. हम भारत को बताना चाहते है की यह समय चीन को अकड दिखाने का नही है क्योकि भारत , चीन के साथ मुकाबला करने की स्थिति में ही नही है. चीनी मीडिया ने चीन की शक्ति को बताते हुए यह दर्शाने की कोशिश की , की भारत उनके आगे कही नही ठहरता.

और पढ़े -   मोदी सरकार रोहिंग्या मुसलमानों के नरसंहार का मुद्दा सयुंक्त राष्ट्र में उठाए: अजमेर दरगाह दीवान

चीन के अख़बार गलोबल टाइम्स में छपे एक लेख में उपरोक्त बाते कही गयी. इसमें कहा गया की भारत चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर मुकबला करने की स्थिति में नही है. वह(भारत) राष्ट्रिय शक्ति के मामले में अभी भी हमसे काफी पीछे है. हमारी जीडीपी , भारत से चार गुना है जबकि रक्षा बजट तीन गुना. ऐसे में चीन के साथ दोस्ताना सम्बन्ध रखना ही भारत के लिए सबसे बेहतर विकल्प है.

चीनी मीडिया यही नही रुका उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में कहा की भारत सीमा विवाद को भड़काने की कोशिश कर रहा है. ऐसे में उनको नियम सिखाने की जरुरत है. हालाँकि बीजिंग की मूल नीति भारत के साथ दोस्ताना सम्बन्ध रखने की है लेकिन यह एकतरफा न होकर आपसी सम्मान पर आधारित होनी चाहिए. इसके अलावा उन्होंने भारतीय सेना पर भी निशाना साधते हुए कहा की उनका चीनी सेना को उकसाना, खुद उनके लिए अपमानजनक है. इसलिए उन्हें पीछे हटने के लिए मजबूर करना चाहिए.

और पढ़े -   गुजरात दंगो पर झूठ बोलने को लेकर राजदीप सरदेसाई ने अर्नब गोस्वामी को बताया फेंकू

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE