बीजिंग | सिक्किम के डोकलाम में सड़क निर्माण को लेकर भारत और चीन के बीच पैदा विवाद और बढ़ गया है. जहाँ चीन लगातार भारत को युद्द की गीदड़भभकिया दे रहा है वही भारत ने भी साफ़ कर दिया है की चीन उन्हें 1962 का भारत समझने की भूल न करे. उधर ताजा घटनाक्रम में चीन के सरकारी अख़बार ने दावा किया है की चीनी सेना ने पुरे साजो सामान के साथ युद्धभ्यास करना शुरू शुरू कर दिया है.

गुरुवार को चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने दावा किया की चीन की पीपल लिबरेशन आर्मी ने समुन्द्र से करीब 5100 मीटर ऊंचाई पर युद्ध्भ्यास किया. इस सैन्य अभ्यास में उन्होंने अपने सबसे उन्नत टैंक 96बी का भी इस्तेमाल किया. हालाँकि अखबार ने यह नही बताया की यह सैन्य अभ्यास कब किया गया. अख़बार ने ‘मिलिट्री ताकत की ग़लतफ़हमी न पाले भारत’ शीर्षक वाली खबर से यह जानकारी दी. सबूत के तौर पर सैन्य अभ्यास की कुछ तस्वीरे भी जारी की गयी है.

उधर पीपल एयर फाॅर्स के रिटायर्ड जनरल झु हेपिंग ने भी भारतीय सेना को कमतर बताते हुए कहा की भारत डोकलाम में चीनी सेना को सड़क निर्माण करने से नही रोक पायेगा. चीनी सेना लगातार मजबूत और ताकतवर हुई है. भारतीय सेना उनके मुकबले कही नही ठहरती. चूँकि यह बहुत ही छोटा और संकरा इलाका है इसलिए यहाँ बड़ी संख्या में सैनिको को तैनात नही किया जा सकता. झु ने सवालिया लहजे में पुछा की क्या आपको लगता है की कुछ मिलिट्री वाहन और सैनिक , चीनी सेना को सड़क निर्माण करने से रोक सकेंगे?

बताते चले की 16 जून को भारत ने सिक्किम के डोकलाम इलाके में चीनी सेना को सड़क निर्माण करने से रोक दिया था. यह इलाका भूटान के स्वामित्व वाला है इसलिए चीनी सेना के हस्तक्षेप पर भूटान ने आपत्ति उठाई. इसके बाद से ही दोनों देशो के बीच तनातनी बढ़ी हुई है. चीन पहले ही साफ़ कर चूका है की वो सीमा विवाद को लेकर कोई भी समझौता करने के लिए तैयार नही है. ऐसे में टकराव बढ़ने के पुरे आसार है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE