पुणे. सामाजिक कार्यकर्त्ता अन्ना हज़ारे के ट्रस्ट भ्रष्टाचार विरोधी जन आंदोलन को चैरिटी कमिश्नर ने निलम्बित कर दिया है. कमिश्नर ने निलम्बन का कारण बताया कि किसी भी ट्रस्ट के नाम में भ्रष्टाचार शब्द का प्रयोग नहीं होना चाहिए इसलिए तुरंत इसका नाम बदलकर कुछ और रखा जाए.

Anna Hazareइसके पीछे का तर्क है कि भ्रष्टाचार ख़त्म करने का काम सरकार का है. इसे कोई ट्रस्ट या दूसरा माध्यम खत्म नहीं कर सकता. अन्ना हजारे ने इस निलम्बन को चुनौती दी. अन्ना ने आयुक्त से अपील किया कि इस पर फिर से विचार करें. उन्होंने कहा कि अगर चैरिटी आयुक्त ने बात नहीं मानी तो मैं हाई कोर्ट जाऊंगा लेकिन ये नाम नहीं बदलूंगा. साभार: inkhabar

और पढ़े -   ट्रिपल तलाक असंवैधानिक नहीं, यह मुस्लिम कानून का अहम् हिस्सा: चीफ जस्टिस खेहर

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE