बीफ को लेकर देश में राजनीतिक उथल-पुथल चल रही है. खुद सरकार के मंत्री इस सबंध में तय नहीं कर पा रहे कि क्या बयान देना चाहिए.

हाल ही में केन्द्रीय मंत्री रामदास अठावले ने गौरक्षा के नाम पर ही रही हत्याओं पर चिंता जाहिर करते हुए गौरक्षकों को नरभक्षक करार दिया था. साथ ही गौमांस खाने के मुद्दें पर कहा था कि गौमांस खाना भारत के प्रत्येक नागरिक का अधिकार है.

अठावले के इस बयान को सप्ताह भर का समय भी नही गुजरा कि उन्होंने अपने सुर बदल लिए. अब उन्होंने कहा, ‘ गाय का मांस लोगों को नहीं खाना चाहिए क्योंकि देश में गौहत्या के खिलाफ कानून है और हिन्दू समुदाय की भावनाएं गाय से जुड़ी हुई हैं, लेकिन दूसरे जानवरों का मांस खाने में कोई दिक्कत नहीं है. आगे उन्होंने कहा कि इन दिनों गौरक्षा के नाम पर लोगों को पीटना और उनकी हत्या करना फैशन बन गया है.

हालांकि इससे पहले उन्होंने गौरक्षकों को चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर उन्होंने हिंसा का रास्ता नही छोड़ा तो वे उनकी पार्टी सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन करेगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE