नई दिल्‍ली। हाल ही में पेश हुए केंद्र सरकार के तीसरे बजट की कई योजनाओं के नामों में अहम बदलाव किए गए हैं। बजट में सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर चल रही चार योजनाओं के नामों को बदल दिया है।

केंद्र सरकार ने इन योजनाओं के नामों को बदलकर अपने किसी नेता या पसंदीदा शख्सियत का नाम नहीं रखा है। इन योजनाओं के नामों को बदलकर ज्‍यादा राजनीतिक रूप से निष्‍पक्ष दिखने की कोशिश की गई है। पंचायती राज मंत्रालय के अंतर्गत चलने वाली राजीव गांधी पंचायत सशक्तिकरण योजना के नाम को बदलकर अब पंचायत स‍शक्तिकरण योजना रखा गया है। यह नाम एक अप्रैल 2016 से लागू होगा।

और पढ़े -   राष्ट्रपति प्रणव मुख़र्जी का आखिरी संबोधन , लोकतंत्र में हिंसा से दूर रहने की दी हिदायत

सरकार के इस कदम को पंचायती राज सचिव एसएम विजयनंद ने पुष्टि की है। उन्‍होंने कहा, ‘आने वाले वित्‍तीय वर्ष से इस योजना का नाम बदल दिया जाएगा। योजना के नाम के साथ-साथ नियमों में भी कुछ अहम बदलाव किए जाएंगे।’

उल्‍लेखनीय है कि यह योजना कांग्रेस के यूपीए सरकार के समय शुरु की गई थी। केंद्र सरकार ने बजट में जिन अन्‍य योजनाओं के नामों में बदलाव किए हैं, वो कुछ इस प्रकार हैं :

‘राजीव गांधी राष्‍ट्रीय फेलोशिप योजना’ के नाम से भी राजीव गांधी के नाम को हटा दिया है। विकलांग छात्रों को दी जाने वाली फेलोशिप का नया नाम राष्‍ट्रीय फेलोशिप फॉर स्‍टूडेंट्स विद डिसैबिलिटीज होगा।

और पढ़े -   अच्छे दिन के वादों के बीच 500 में से केवल 3 को रोजगार दे पा रही मोदी सरकार

अनुसूचित जाति के छात्रों को दी जाने वाली ‘राजीव गांधी राष्‍ट्रीय फेलोशिप योजना’ के नाम को बदलकर राष्‍ट्रीय फेलोशिप फॉर शेडयूल्‍ड कास्‍ट्स रख दिया गया है।

यूपीए शासनकाल में शुरु हुई ‘राजीव गांधी खेल अभियान’ को सरकार ने इस बजट में खेलो इंडिया योजना के साथ मिला दिया है। बजट 2016-17 में लिखा गया है, ‘खेलो इंडिया : खेलों के विकास के लिए राष्‍ट्रीय कार्यक्रम’, ‘राजीव गांधी खेल अभियान’, ‘शहरी विकास बुनियादी ढांचा योजना’, ‘राष्‍ट्रीय खेल प्रतिभा खोज व्‍यवस्‍था योजना’, ‘राष्‍ट्रमंडल खेल 2010’ को आपस में मिलाकर एक नई योजना बनाई गई है।

इससे पहले भी केंद्र सरकार ने राजीव गांधी के नाम से चल रही कई योजनाओं का नाम बदला था। मसलन, कमजोर आय वर्ग के नागरिकों की आवास समस्‍या सुलझाने के लिए बनाई गई ‘राजीव गांधी ऋण योजना’ का नया नाम प्रधानमंत्री आवास योजना कर दिया गया है। राजीव गांधी के नाम पर शुरू की गई ग्रामीण विद्युतीकरण के लिए शुरू की गई योजना में राजीव के स्‍थान पर ‘दीनदयाल उपाध्‍याय’ का नाम जोड़ा गया था। (Naidunia)

और पढ़े -   मुख्य न्यायाधीश ने रामनाथ कोविंद को दिलाई देश के 14वें राष्ट्रपति पद की शपथ

English Summary

Central government recently presented the third budget and it is seen that in many schemes changes have been made. In this budget government has changed the name of the schemes which was earlier run on the name of former prime minister Rajiv Gandhi.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE