“केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने गुजरात के विवादित और सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी डी जी वंजारा को शनिवार को गुजरात लौटने की अनुमति दे दी। वंजारा पर गुजरात के पुलिस अधिकारी रहते हुए इशरत जहां और शोहराबुद्दीन शेख को फर्जी मुठभेड़ में मार गिराने का आरोप था। अदालत ने उनकी जमानत ‌शर्त को संशोधित करते हुए यह फैसला दिया जिस कारण वंजारा पिछले एक साल से मुंबई में थे।”

विशेष न्यायाधीश एस जे राजे ने फैसला सुनाते हुए वंजारा की जमानत संशोधन दलील को मंजूरी दे दी। न्यायाधीश ने कहा कि गुजरात में प्रवेश नहीं करने और मुंबई में ही रहने की शर्त को हटा दिया गया है। फैसला सुनाते ही वंजारा के बेटे पृथ्वी ने न्यायपालिका का आभार व्यक्त किया और कहा, ‘मेरे पिता अब नौ साल के लंबे इंतजार के बाद घर वापसी कर सकते हैं। यह जश्न का माहौल होगा।’

अपनी जमानत संशोधन याचिका में वंजारा ने कहा था ‌कि मुंबई में उनकी जान को खतरा है क्योंकि यह दाऊद इब्राहिम और छोटा शकील जैसे अंतरराष्ट्रीय घोषित अपराधियों का गढ़ रहा है। शोहराबुद्दीन शेख मुठभेड़ मामले में जमानत पर छूटे वंजारा जमानत शर्तों के मुताबिक मुंबई तक ही सीमित हैं। इसके बाद सीबीआई अदालत ने भी उन्हें इशरत जहां मामले में जमानत देते हुए गुजरात में प्रवेश करने पर रोक लगा दी थी। (outlookhindi)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें