Hyderbad

हैदराबाद । हैदराबाद के अंग्रेजी एवं विदेशी भाषा विश्‍वविद्यालय (ईएफएलयू) ने एक मुस्लिम छात्र को पीएचडी परीक्षा में बैठने से रोक दिया गया। इसकी वजह बीफ खाना बताया जा रहा हैं। अंग्रेजी वेबसाइट द न्‍यूज मिनट की रिपोर्ट के अनुसार 27 वर्षीय केरल निवासी मोहम्‍मद जलीस को यूनिवर्सिटी में बीफ फेस्टिवल आयोजित कर बीफ खाने के चलते परीक्षा देने से रोका गया।

जलीस ने बताया कि 7 मई को होने वाली एंट्रेस परीक्षा के लिए वह यूनिवर्सिटी गया था। उसे कहा गया कि वह जाकर प्रोक्‍टर प्रकाश कोना से मिले। कोना ने उसे बताया कि बीफ फेस्टिवल के चलते पुलिस केस दर्ज होने के कारण वह परीक्षा में बैठने के योग्‍य नहीं है। जलीस को पता भी नहीं था कि उस पर मामला दर्ज है। जलीस ने सोमवार को यूनिवर्सिटी प्रशासन से  इस बारे में लिखित में जानकारी मांगी तो यूनिवर्सिटी ने जानकारी देते हुवे कहा कि जलीस के साथ अन्‍य छात्रों को भी परीक्षा देना से रोका गया है।

जलीस ने आगे कहा कि ’11 दिसंबर को ओस्‍मानिया यूनिवर्सिटी के छात्रों ने बीफ फेस्टिवल का आयोजन किया था। इसके तहत ईएफएलयू के भी 25 छात्रों ने ऐसा ही कार्यक्रम आयोजित किया था। इस फेस्टिवल की एक तस्‍वीर भी हमने फेसबुक पर अपलोड की थी।

यूनिवर्सिटी ने उस तस्‍वीर के आधार पर सभी 25 छात्रों के खिलाफ ओस्‍मानिया यूनिवर्सिटी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करा दी।’ एक अन्‍य छात्र ने बताया कि इस बारे में जब ओस्‍मानिया यूनिवर्सिटी पुलिस थाने से बात की गई तो उन्‍होंने ऐसी किसी शिकायत से इनकार किया।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें