modi in Brussels

केरल के कोझिकोड में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय परिषद में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मुसलमानों को वोट की मंडी नहीं समझा जाना चाहिए.

उन्होंने दीनदयाल उपाध्याय के उस कथन का जिक्र किया जिसमें उन्होंने मुसलमानों के करीब आने और उनकी तरक्की का मंत्र दिया था. पीएम मोदी ने उपाध्याय के कथन को दोहराते हुए कहा, “न मुसलमानों को पुरस्कृत करें, न तिरस्कृत करें. बल्कि उनका परिष्कार करें. मुसलमान कोई वोट की मंडी का माल नहीं और घृणा की वस्तु नहीं है. उसे अपना समझे.”

उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी कभी अपने सिद्धांतों से नहीं डिगी है. हम राजनीति में कुछ पाने के लिए नहीं बल्कि सेवा के मकसद से आए हैं. हमारी विकास की यात्रा में कोई पीछे नहीं रह सकता और समाज का आखिरी व्‍यक्ति भी हमारे लिए अछूता नहीं.

मोदी ने एक बार फिर कहा कि देश की समस्याओं का समाधान सिर्फ विकास को बताते हुए कहा कि समाज के निचले वर्ग का विकास करना जरूरी है और उनकी इस विकास यात्र में कोई नहीं छूटेगा. उन्होंने कहा, “हिंदुस्तान के सभी क्षेत्रों में सभी भू-भागों में और सभी लोगों के लिए विकास की समान संभावनाओं को हमें तलाशते रहना चाहिए.”


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें