दलाई लामा ने रोहंग्या शरणार्थी संकट के बारे में पहली बार बात करते हुए कहा कि बुद्ध ने बौद्ध-बहुसंख्यक म्यांमार में हिंसा से मुसलमानों को भागने में मदद की होगी.

पड़ोसी म्यांमार में हालिया हिंसा के बाद हज़ारों रोहंगिया बांग्लादेश में आ गए हैं, अब तक इस हिंसा में 1,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, जिनमें से ज्यादातर रोहिंग्या है.

और पढ़े -   मोदी सरकार रोहिंग्या मुसलमानों के नरसंहार का मुद्दा सयुंक्त राष्ट्र में उठाए: अजमेर दरगाह दीवान

दलाई लामा ने पत्रकारों से कहा कि “वे लोग जो कुछ मुसलमानों को परेशान कर रहे हैं, उन्हें बुद्ध को याद रखना चाहिए” “वह निश्चित रूप से उन गरीब मुसलमानों को मदद करेंगे तो फिर भी मुझे लगता है कि यह बहुत दुख की बात है.”

बौद्ध बहुल आबादी वाले म्यांमार में रोहिंग्या के लिए व्यापक नफरत है, जिन्हें नागरिकता से वंचित किया गया है और अवैध “बांग्ला” आप्रवासियों का लेबल दिया गया है.

और पढ़े -   रोहिंग्या शरणार्थियों की आने की संभावना के चलते भारत ने म्यांमार के साथ की अपनी सीमा सील

फायरब्रांड भिक्षुओं के नेतृत्व में बौद्ध राष्ट्रवादियों ने एक लंबा इस्लाफ़ोबिक अभियान चलाया है, जिससे उन्हें देश से बाहर धकेला जा रहा है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE