जम्मू | बीएसएफ के 29वी बटालियन के जवान तेज बहादुर यादव की एक विडियो ने देश में हलचल मचा दी है. इस विडियो में तेज बहादुर ने आरोप लगाया था की बीएसएफ अधिकारी जरुरी सामान को बाजार में बेच देते है और उन्हें खाने के लिए घटिया खाना दिया जाता है. विडियो में तेज बहादुर ने उनको मिल रहे खाने की क्वालिटी भी दिखाई थी. विडियो के वायरल होने के बाद बीएसएफ अधिकारियो की इमानदारी पर सवाल खड़े हो गए है.

नवभारत टाइम्स ने इस मामले में बेहद ही चौकाने वाला खुलासा किया है. नवभारत में छपी खबर के अनुसार बीएसएफ कैंपो के आसपास रहने वाले कुछ लोगो ने दावा किया है की बीएसएफ अधिकारियो उन्हें आधे दामो में फ्यूल और जरुरी सामान बेचते है. अखबार की पड़ताल में एक बीएसएफ जवान ने भी माना की अधिकारी जरुरी सामान बाहर बचते है.

श्रीनगर स्थित हुमहमा हेडक्वार्टर के आसपास के लोगो ने बताया की बीएसएफ अधिकारी रोजमर्रा की चीजे जैसे चावल, मसाले , दाल और अन्य रोजमर्रा की चीजे यहाँ के दुकानदारों को आधे दामो में बेच देते है. यहीं नही ये अधिकारी डीजल और पेट्रोल भी आधे दामो में बेचते है. इस बात की पुष्टि एक बीएसएफ जवान ने भी की है. नाम न छापने की शर्त पर उसने बताया की हम तक सामान नही पहुंचता जबकि आसपास के दुकानदारों को जरुरी चीजे एजेंट के माध्यम से बेचीं जाती है.

इसी इलाके में फर्नीचर का काम करने वाले एक दुकानदार ने बताया की उनके पास बीएसएफ अधिकारी आते है और बड़ा कमीशन लेकर फर्नीचर खरीद कर ले जाते है. इन अधिकारियो का कमीशन हमारे प्रॉफिट से भी ज्यादा होता है और कई बार तो वो यह भी नही देखते की फर्नीचर की क्वालिटी क्या है. यह सारे दावे कितने सही है यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा लेकिन सारे आरोप बड़े ही संगीन है. फ़िलहाल बीएसएफ ने इन आरोपों की जांच के आदेश दे दिए है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें