जेएनयू में लगाए गए देश विरोधी नारों की घटना से संबंधित जांच रिपोर्ट दिल्ली पुलिस द्वारा गृह मंत्रालय को सौंपे जाने की खबर है। सूत्रों के अनुसार दिल्ली पुलिस आयुक्त बीएस बस्सी ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर उन्हें यह रिपोर्ट सौंपी है।

download (2)ऐसा माना जा रहा है कि इस रिपोर्ट में पुलिस ने कहा है कि जेनएयू में 9 फरवरी को जो कार्यक्रम आयोजित किया गया था उसमें 90 छात्रों के एक समूह की अगुवाई छात्र संघ नेता कन्हैया ने ही की थी। इसी कार्यक्रम में देश विरोधी नारे लगाए गए थे। रिपोर्ट में इसके लिए 14 अन्य छात्रों को भी आरोपी ठहराया गया है जिनमें से सात को पूछताछ के लिए हिरासत में लिए जाने की खबर है। हालांकि पुलिस की ओर से अभी इसकी पुष्टि नहीं की गई है।

घटना के बाद पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए जेनएयू के उपकुलपति को एक पत्र भेजा था, जिनमें उनसे छात्र संघ के नेता कन्हैंया के अलावा पांच और छात्र, उमर खालिद, आशुतोष कुमार, अनिरबन भट्टाचार्य, रामा नागा और आनंद प्रकाश को राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में पुलिस के समक्ष पेश करने को कहा गया था। इनमें से एक कन्हैया को पुलिस ने कार्यक्रम की वीडियो क्लिप पर संज्ञान लेते हुए शुक्रवार को ही गिरफ्तार कर लिया था।

इस बीच केंद्रीय गृहराज्य मंत्री किरण रिजिजू ने जेएनयू में हुई घटना को बेहद दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा, ‘जो वहां देश विरोधी नारे लगा रहे थे वे कोई बच्चे नहीं थे जिन्हें यह नहीं पता था कि वह क्या कर रहे हैं। बोलने की आजाद की मतलब यह नहीं है कि आप देश को गाली देने लगें। विश्वविद्यालय को राष्ट्रविरोधी गतिविधियों का अड्डा बनने की इजाजत नहीं दी जा सकती।’ (News24)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें