supr

तीन तलाक को लेकर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में एक और हलफनामा दाखिल किया हैं. जिसमे बोर्ड ने तीन तलाक को मुस्लिम महिलाओं के मौलिक अधिकारों का हनन बताने को लेकर आलोचना करते हुए कहा कि केंद्र सरकार का यह रुख बेकार हैं.

हलफनामे में आगे कहा गया कि इस मामलें में दाखिल याचिकाओं को खारिज किया जाना चाहिए क्योंकि याचिका में जो सवाल उठाए गए हैं वे जूडिशियल रिव्यू के दायरे में नहीं आते. साथ ही कहा गया कि पर्सनल लॉ को चुनौती नहीं दी जा सकती. सोशल रिफॉर्म के नाम पर मुस्लिम पर्सनल लॉ को दोबारा नहीं लिखा जा सकता. क्योंकि यह प्रैक्टिस संविधान के अनुच्छेद-25, 26 और 29 के तहत प्रोटेक्टेड है.

और पढ़े -   आरएसएस रोजेदारो को देगा इफ्तार पार्टी, मटन-चिकन की जगह दिया जायेगा एक गिलास दूध

इसके अलावा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कॉमन सिविल कोड संविधान के डायरेक्टिव प्रिंसिपल का पार्ट बताते हुए कहा कि पर्सनल लॉ को मूल अधिकार की कसौटी पर चुनौती नहीं दी जा सकती. ट्रिपल तलाक, निकाह हलाला जैसे मुद्दे पर कोर्ट अगर सुनवाई करता है तो यह जूडिशियल लेजिस्लेशन की तरह होगा.

गौरतलब रहें कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर तीन तलाक का विरोध करते हुए कहा कि तीन तलाक को संविधान के तहत दिए गए समानता के अधिकार और भेदभाव के खिलाफ अधिकार के संदर्भ में देखा जाना चाहिए.

और पढ़े -   अब पाकिस्तान ने विडियो जारी कर किया भारतीय पोस्ट तबाह करने का दावा, भारतीय दावों को किया ख़ारिज

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE